🎉 होली: समारोह 🌈

🎉होली के बारे में सारा🌎 विश्व जानता है ! इसका कारण यह है कि यह एक उत्सव है , जिसमें बहुत 🎉 जश्न और मस्तीभरी मज़ाक है ! लोगों को एक साथ पाकर और एक- दूसरे पर रंगों की पिचकारी 🎉 व रंगीले पाउडर फेंक कर , एक अति आनंदमय जश्न का समय बिताते हैं। वे सभी इंद्रधनुष 🌈के रंगों में बहुत गंदे शामिल होते हैं, लेकिन यह एकदम मस्त और खेलने लायक है❗

पारंपरिक 🎉 होली उत्सव:
🔥 छोटी होली🎉: अधिकांश क्षेत्रों में होली के त्योहार के दो दिनों के लिए मनाया जाता है । पहले दिन -होली अलाव🔥 की रात को -जलानेवाली होली जाना जाता है । इस दिन को "छोटी होली" और "होलिका दहन"🔥 भी कहते हैं । दक्षिण भारत में होलिका दहन को ' काम दहनम् ' मानते हैं ।

🌈 रंग्वाली होली / धुलंडी (रंग फेंकना )🎉 : दूसरे दिन, रंग्वाली🌈 होली के रूप में मनाया जाता है - वह दिन, जब लोगों ने एक दूसरे पर सुगंधित रंगों की पाउडर🌈 व पिचकारी फेंककर, जश्न मनाते हैं । यह एक रोमांचक खेल है जहाँ हम अपने देवता प्रति भक्ति 🙏तथा अपने परिवार के सदस्यों व दोस्तों के प्रति सम्मानपूर्वक प्रेम💖 और समर्पण प्रदर्शन के लिए एक बढ़िया अवसर मिलता है। 🎉रंग्वाली होली जो मुख्य होली के दिन है, उसे 'धुलन्दि' या 'धुलेंन्दि'🎉 भी कहा जाता है।

🛢 ढ़ोल पूर्णिमा ( ढोल जात्रा ) उत्सव समारोह : वास्तव में, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में🎉 उत्सव समारोह छह दिन पहले से ही शुरू करते हैं । फागु दशमी के दिन , 🎉होली के समारोह को 🐚भगवान कृष्ण और 👸राधा को समर्पित करते हैं । श्री राधा और कृष्ण की✨ मूर्तियों को, विशेष रूप से सजाकर, ✨पालकी पर जुलूस में, चारों ओर ले जाते हैं । भक्त गण , बारी-बारी से, उन्हें झूलाया करते है । मूर्तियों पर भी रंगीन 🌈पाउडर लगाया जाता है । बेशक, जरूर! सड़कों में लोगों पर रंगों की बौछार 🎉होता रहता है !

🔎 होली के बारे में अधिक जानकारी केलिए कृपया टाइप करें - wiki Holi