अजमेर बम ब्लॉस्ट : दो दोषियों की सजा का ऐलान आज, २००७ में हुआ था ब्लास्ट

  |   समाचार

इसमें अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह परिसर में ११ अक्टूबर २००७ को 'आहता ए नूर' पेड़ के पास हुए बम विस्फोट मामले में देवेन्द्र गुप्ता, भावेश पटेल और सुनील जोशी को दोषी करार दिया था.

कोर्ट ने देवेन्द्र गुप्ता, भावेश पटेल और सुनील जोशी को आईपीसी की धारा १२० बी, १९५ और धारा २९५ के अलावा विस्फोटक सामग्री कानून की धारा ३४ और गैर कानूनी गतिविधियों का दोषी पाया है.

गौरतलब है कि अजमेर दरगाह में ११ अक्टूबर २००७ को हुए धमाके में तीन लोगों की मौत हुई थी और १५ लोग घायल हुए थे.

To read full article - https://goo.gl/kWCD3z

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬