👉आरक्षित सीट खाली नहीं मिलने पर रेलवे भरेगा💴 जुर्माना

  |   समाचार

ट्रेन में सफर के दौरान आरक्षित कराई गई सीट पर दूसरे यात्री के जबरन बैठने तथा वैध यात्री को परेशानी होने को लेकर अब रेलवे को पीडि़त को 75 हजार का मुआवजा देना होगा।

दिल्ली राज्य उपभोक्ता अदालत ने जिला फोरम के यात्री को 75 हजार रुपए का जुर्माना दिए जाने के फैंसले को बरकरार रखा है।

पीडि़त ने चार साल पहले 30 मार्च 2013 को लिंक दक्षिण एक्सप्रेस में आरक्षित टिकट लिया था। मध्य प्रदेश के बीना में कुछ युवकों ने जबरन उसकी सीट पर कब्जा कर लिया। इससे उसे मानसिक प्रताडऩा झेलनी पड़ी थी। उसने जिला उपभोक्ता फोरम से 20 लाख रुपए मुआवजा दिलाने की मांग की थी।

कोर्ट की तरफ से नोटिस भेजे जाने के बाद भी रेलवे का कोई अधिकारी सुनवाई के लिए नहीं पहुंचा। इसके बाद वर्ष 2014 में फैंसला सुनाया गया था। रेलवे ने उसे चुनौती दी थी।

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬