👉'आधार' एक पहचान है, प्रोफाइलिंग😱 का जरिया नहीं- यूअाईडीएअाई

  |   समाचार

आधार को लेकर निजता व उसके डाटा के सुरक्षा पर लगातार सवाल खड़े होने के बाद भी सरकार उसे कई क्षेत्रों में अनिवार्य रूप से लागू करने का प्रयास कर रही है। इसका चहुंअाेर विरोध हो रहा है। इस बीच आधार बनाने वाली संस्था भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण(यूआइडीएआई) ने कहा है कि आधार एक पहचान है। इसे प्रोफाइलिंग का जरिया समझना सरासर गलत है।

प्राधिकरण ने इस बात पर जोर दिया कि आधार की जानकारियों का रेगुलेशन मजबूत कानूनों के तहत होता है। यूआइडीएआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अजय भूषण पांडेय ने ट्विटर पर लाइव चैट के दौरान कहा कि आधार न्यूनतम सूचनाओं और बायोमीट्रिक्स पर आधारित है जो सबसे कम भेद्य है यानि कि आधार के डाटा को आसानी से लीक नहीं किया जा सकता है।

हालांकि पांडेय ने कहा कि भविष्य में डीएनए आधारित रूपरेखा तैयार करने कि फिलहाल कोई योजना नहीं है। उन्होंने कहा कि वह उंगलियों के निशान, आंख की पुतली और तस्वीर लेते हैं। डीएनए या कुछ और लेने की उनकी कोई योजना नहीं है। तस्वीर, उंगलियों के निशान और पुतली आधार बनाने और किसी की भी पहचान करने के लिए पर्याप्त है।उन्होंने आधार के साथ विभिन्न सूचनाओं को जोड़ने पर सरकार द्वारा निगरानी या दुरूपयोग की आशंकाओं को खारिज किया।

पांडेय ने कहा, ‘‘जब आप बैंक में आधार संख्या देते हैं तो प्राधिकरण को आपके बैंक खाता के बारे में मालूम नहीं होता है। बैंक हमें आपकी आधार संख्या और उंगलियों के निशान का मिलान करने के लिए देते हैं.’’ उन्होंने कहा कि सरकार को किसी के बारे में प्रणाली से कोई सूचना नहीं मिलती है।

यहां देखें फोटो-http://v.duta.us/9XUBqgAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬