पाकिस्तानी🇵🇰 स्पिनर दानिश कनेरिया ने स्वीकार किया😱 गुनाह, 12 रन के लिए मिले थे 5.8 💴लाख

  |   क्रिकेट

पाकिस्तान के 37 वर्षीय पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी दानिश कनेरिया ने छह साल तक इनकार करने के बाद आखिरकार स्पॉट फिक्सिंग मामले में शामिल होने की बात कबूली है और इस प्रकरण के चलते एसेक्स के उनके पूर्व साथी मर्विन वेस्टफील्उ को जेल काटनी पड़ी थी। दानिश पाकिस्तान के पूर्व स्पिनर हैं। वे काफी समय से पाकिस्तान टीम का हिस्सा नहीं हैं।

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड का आजीवन प्रतिबंध झेल रहे कनेरिया ने अल जजीरा टीवी डाक्यूमेंटरी को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘‘मेरा नाम दानिश कनेरिया है और मैं स्वीकार करता हूं कि इंग्लैंड और वेल्स क्रिकेट बोर्ड द्वारा 2012 में मेरे ऊपर लगाये गए दो आरोप सही थे।’’ लेग स्पिनर कनेरिया ने कहा, ‘‘मैं एसेक्स के अपने साथी खिलाड़ी मर्विन वेस्टफील्ड से, एसेक्स क्रिकेट क्लब और एसेक्स के प्रशंसकों से माफी मांगना चाहता हूं। मैं पाकिस्तान से माफी मांगता हूं।’’

दानिश ने कहा, "मैंने खुद को बेहद मजबूत बनाते हुए यह फैसला लिया है, क्योंकि आप झूठ के साथ जीवन नहीं जी सकते।" स्पॉट-फिक्सिंग के मामले में दानिश को 2010 में वेस्टफील्ड के साथ गिरफ्तार किया गया था लेकिन सबूतों की कमी के कारण दोनों को छोड़ दिया गया। इतने वर्षो में दानिश इन आरोपों से स्वंय को बचाते फिर रहे थे। हालांकि, उन्हें इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड द्वारा आजीवन प्रतिबंधित कर दिया गया था।

वेस्टफील्ड ने 2009 में डरहम में 40 ओवरों के एक काउंटी मैच के दौरान अपने पहले ओवर में 12 रन देने की एवज में कथित सटोरिये अनु भट्ट से 7862 डॉलर लिये थे।जिसका आज का मूल्य करीबन 5.8 लाख भारतीय रुपये हैं। कनेरिया की मध्यस्थता में यह सौदा हुआ था जिसने वेस्टफील्ड को भट्ट से मिलवाया था।

दानिश कनेरिया पहले पाकिस्तानी क्रिकेटर नहीं हैं जो कि मैच फिक्सिंग या कि स्पॉट फिक्सिंग में फंसे हों और अपना अपराध कबूला हो। इससे पहले पाकिस्तान के पूर्व कप्तान सलमान बट ने भी अपना अपराध कबूल करने संबंधी बयान पर हस्ताक्षर किए थे। सलमान बट ने पाकिस्तान और इंग्लैंड के बीच 2010 की सीरीज के दौरान स्पॉट फिक्सिंग में अपनी भूमिका को स्वीकार किया जिसके कारण उन्हें प्रतिबंधित किया गया था।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/AyqVmwAA

📲 Get क्रिकेट on Whatsapp 💬