[garhwa] - जो दहेज लेते हैं उन्हें पुत्र से पिंडदान भी नहीं मिलता : अरुण कृष्ण

  |   Garhwanews

गढ़वा : प्रेम के बिना ज्ञान संभव नहीं है. जो व्यक्ति अपने माता-पिता अथवा अन्य मनुष्यों से प्रेम नहीं कर सकता उसे भगवान से भी प्रेम करने का अधिकार प्राप्त नहीं होता. उक्त बातें गढ़वा शहर के सहिजना स्थित बाबा सोमनाथ मंदिर परिसर में दुर्गा पूजा के अवसर पर आयोजित श्रीमद्भागवत महापुराण संगीतमय कथा का प्रवचन करते हुए वृंदावन से आये अरुण कृष्ण शास्त्री ने मंगलवार की रात्रि कही.

अरुण शास्त्री ने कहा कि 11 वर्षों तक वृंदावन रास के पश्चात कन्हैया अक्रुर के कहने से मथुरा गमन करते हैं तथा वहां कंस वध कर महाराज उग्रसेन को राज्य प्रदान कर गुरुकुल में जाकर अल्पकाल में ही समस्त विद्याओं का अध्ययन करते हैं. उन्होंने कहा कि प्रेम के बिना ज्ञान संभव नहीं है. ज्ञान सूखे साबुन की तरह है और प्रेम जल की तरह....

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/WcmRDQAA

📲 Get Garhwa News on Whatsapp 💬