[nagaur] - ‘किताबी ज्ञान के साथ नैतिक शिक्षा जरूरी’

  |   Nagaurnews

डीडवाना. शहर की पूजा इंटरनेशनल एकेडमी में वार्षिकोत्सव ‘फिएस्टा-2018 ’ नागौरिया मठ के विष्णुप्रपन्नाचार्य के सानिध्य में मनाया गया। कार्यक्रम मे विद्यार्थियों ने हिन्दी, पंजाबी, गुजराती गीतों पर प्रस्तुतियां दी। इस मौके पर संस्थान के प्रतिभाशाली विद्यार्थियों को पुरस्कृत भी किया गया। विष्णुप्रपन्नाचार्य ने कहा कि किताबी ज्ञान के साथ ही विद्यार्थियों को नैतिक शिक्षा भी आवश्यक है। उन्होंने देश की संस्कृति व संस्कार को ध्यान में रखते हुए जीवन में लक्ष्य निर्धारित कर आगे बढने की बात कही। मुख्य अतिथि पुलिस उपअधीक्षक रघुवीरप्रसाद शर्मा ने कहा कि विद्यार्थी जीवन में सर्वागीण विकास के लिए शिक्षा के साथ बौद्धिक ज्ञान प्राप्त होना जरूरी है। डॉ.गजादान चारण ने कहा कि अपनी ऊर्जा का सदुपयोग लक्ष्य को पाने के लिए करें। उपखण्ड अधिकारी उत्तम सिंह शेखावत, डॉ.एन.आर.ढ़ाका व डॉ.अशोक ध्यानचंद, अखलाक अहमद उस्मानी व राजस्थान बास्केटबॉल कोच महिपाल सिंह शेखावत ने भी सम्बोधित किया। रणजीत सिंह राठौड़ ने एकेडमी की गतिविधियों के बारे मे बताया। संस्था चैयरमेन बजरंग सिंह व निदेशक मनोहर सिंह राठौड़ ने आभार व्यक्त किया। डॉ.सोहन चौधरी, डॉ.विनिता, सीए मुकेश रूवटिया, डॉ.यशपाल, डॉ.श्रवण बाटण सहित अन्य मौजूद रहे। विद्यार्थियों की ओर से ‘एनिमल डांस’, ‘तारे आसमान के’, ‘उड़ी-उड़ी जाय’, ‘प्रेम लीला’, ‘नंगाड़ा संग ढ़ोल बाजे’, ‘गुन-गुन गुना रहे’, ‘इंडिया वाले’, ‘बड़े मियां-छोटे मियां’, ‘जय हो इंडिया’, ‘डांडिया डांस’ की प्रस्तुतियां आकर्षण का केन्द्र रही।

फोटो - http://v.duta.us/ZjORWgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/FSYtogAA

📲 Get Nagaur News on Whatsapp 💬