[uttarkashi] - केदारनाथ धाम में शिला को महिमा मंडित करने पर जताई आपति

  |   Uttarkashinews

उत्तरकाशी। बदरी-केदार मंदिर समिति के पूर्व सदस्य गुलाब सिंह नेगी ने केदारनाथ धाम में वर्ष 2013 की आपदा में मंदिर की ढाल बनी शिला को दिव्य शिला के तौर पर महिमा मंडित किए जाने पर आपत्ति जताते हुए इसे धार्मिक आस्था से खिलवाड़ बताया। उन्होंने कहा कि केदारनाथ धाम में एक ही दिव्य शिला है और वह साक्षात केदारनाथ मंदिर के भीतर मौजूद है।

पूर्व सदस्य नेगी ने कहा कि वर्ष 2013 की आपदा में केदारनाथ धाम में भारी तबाही मची थी। बाढ़ में बहकर आई एक बड़ी शिला केदारनाथ मंदिर के पीछे आड़ बनी, जिससे मंदिर को क्षति नहीं पहुंची। प्रचारित किया जा रहा है कि इस शिला की वजह से केदारनाथ मंदिर का अस्तित्व बचा, जबकि यह देवाधिदेव महादेव का ही चमत्कार था कि वह शिला वहां पर रुकी और उसने मंदाकिनी की धारा को दो हिस्सों में बांट दिया और मंदिर बच गया। वर्तमान में इस शिला को दिव्य शिला के रूप में प्रचारित कर इसके कायाकल्प की तैयारियां चल रही है। इसकी परिक्रमा का पथ तैयार किया जा रहा है। यह करोड़ों श्रद्धालुओं की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने वाला है। शिला का सौंदर्यीकरण कर पार्क विकसित किया जा सकता है, लेकिन केदारनाथ मंदिर के भीतर मौजूद साक्षात भगवान शिव वाली दिव्य शिला के अलावा दूसरी शिला को दिव्य शिला के रूप में महिमा मंडित किया जाना गलत होगा। इस तरह की भ्रांतियां धार्मिक आस्था के साथ खिलवाड़ है। उन्होंने इस संबंध में सूबे के मुख्यमंत्री एवं संस्कृति मंत्री को पत्र लिखकर आपत्ति जताई है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/iSnkYAAA

📲 Get Uttarkashi News on Whatsapp 💬