[jabalpur] - ‘दुष्कर्म केवल शारीरिक चोट नहीं, बल्कि मृत्युतुल्य कष्टदायक’

  |   Jabalpurnews

जबलपुर. जिला अदालत ने एक अहम आदेश में कहा, ‘दुष्कर्म केवल शारीरिक चोट नहीं, बल्कि मृत्यु तुल्य कष्टदायक है। ऐसा अपराध जो समाज की नैतिकता को प्रभावित करता हो, उसमें कठोरतम सजा दी जाना चाहिए।’ इस मत के साथ अदोलत ने छह वर्षीय मासूम बेटी से बलात्कार करने वाले पिता को प्राकृतिक जीवनकाल तक जेल की सजा सुनाई। पॉक्सो मामलों की विशेष अदालत ने आरोपित पर 10 हजार रुपए जुर्माना भी लगाया। विशेष न्यायाधीश आरपी सोनी की अदालत ने जुर्माने से आठ हजार रुपए पीडि़त को देने के लिए कहा।

यह है मामला

अतिरिक्त जिला अभियोजन अधिकारी स्मृतिलता बरकड़े के अनुसार 20 मार्च 2017 को हनुमानताल थाने में एक महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई कि उसका विवाह वर्ष 2004 में ग्राम घोघरी, पान उमरिया निवासी मोहम्मद एहसान उर्फ सोनू रंगरेज के साथ हुआ था। उसकी बड़ी बेटी 8 वर्ष, छोटी बेटी छह वर्ष और बेटा पांच वर्ष का है। उसे लकवा लगने के बाद वह हनुमानताल स्थित अपनी बड़ी बहन के घर पर रहने लगी। उसका पति अक्सर मिलने हनुमानताल आता था। वह बड़ी बेटी को अपने साथ पान उमरिया भी ले जाता था। पांच नवंबर 2016 को उसका पति छह वर्षीय छोटी बेटी को अपने साथ ले गया, जहां उसके साथ उसने दुष्कर्म किया। २० मार्च २०१७ को वापस घर लौटने पर पुत्री ने उसे बताया कि पिता ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। पिता की इस करतूत शिकायत पर उसने पुलिस से की। पुलिस ने मामले में प्रकरण दर्ज कर चालान अदालत में पेश किया।...

फोटो - http://v.duta.us/AiwMoQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/yeKERwAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬