[jharkhand] - सुबह-सुबह अजगर का निवाला बन जाती 12 साल की बच्ची, एेसे बची जान

  |   Jharkhandnews

धनबाद के तोपचांची प्रखंड के सुकुडीह गांव में 12 साल की एक लड़की अजगर का निवाला बनने से बच गई. बच्ची का हल्ला सुनकर राहगीर मौके पर पहुंचे और अजगर को ईंट-पत्थर से मारकर घायल कर दिया. इससे अजगर की पकड़ ढीली पड़ गई और बच्ची का जान बच गई.

घरवालों के मुताबिक 12 साल की हदिका शुक्रवार सुबह नींद से जगने के बाद मुंह-हाथ धोने के लिए घर के सामने स्थित कुएं के पास गई. वहां अजगर पहले से मौजूद था. चूंकि बच्ची आंख मलते-मलते कुएं के पास पहुंची थी, इसलिए वह अजगर को देख नहीं पाई. तभी अजगर ने अचानक उस पर हमला बोल दिया और अपनी पकड़ में ले लिया. बच्ची जोर-जोर से चीखने लगी. सुबह का समय था. घरवाले सोए हुए थे. लेकिन उसकी चीख पास से गुजर रहे राहगीरों ने सुनी और वे लोग मौके पर पहुंचे. सामने का दृश्य देखकर लोगों के होश उड़ गये. लेकिन हिम्मत कर लोगों ने ईट-पत्थर से अजगर पर हमला करना शुरू कर दिया. इससे अजगर घायल हो गया और लड़की पर उसकी पकड़ ढीली हो गई. इससे बच्ची जान बचाकर उसके चंगुल से भाग निकली....

फोटो - http://v.duta.us/-_-FtAAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/LOfZQgAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬