[mandsaur] - देेवपुरुष केशुबावजी महाराज का दुल्हन रूपी मटकी के साथ हुआ विवाह

  |   Mandsaurnews

मंदसौर.

भानपुरा नगर के सबसे बड़े समाज सूर्यवंशी कुमरावत तंबोली समाज के आराध्य देव केशुबावजी महाराज का पांच दिवसीय महोत्सव का समापन बुधवार की रात्रि में धूमधाम व धार्मिक आस्था के साथ विदाई देकर किया गया। पांच दिवसीय महोत्सव को लेकर पूरे तंबोली मोहल्ला रामपुरा गेट विजय स्तंभ के समीप से लेकर रामपुरा गेट तक विद्युत सज्जा से दुल्हन की तरह सजाया गया था। शरद पूर्णिमा को सायंकाल से ही केशुबावजी विवाह उत्सव को लेकर पूरे तंबोली मोहल्ले में उत्सवी माहौल निर्मित हो रहा था। रात्रि करीब 8 बजे तंबोली समाज मंदिर श्रीराम मंदिर से केशुबावजी महाराज व सजी धजी दुल्हन रूपी मटकी की शोभायात्रा बैंड-बाजे व ढोल- ढमाकों आतिशबाजी तथा जयकारों के साथ प्रारंभ होकर रामपुरा गेट स्थित दुधाखेड़ी माताजी मंदिर तक पहुंची। यहां आरती के बाद शोभायात्रा वापस मंदिर पहुंची। इस दौरान समाज के युवाओं युवतियों एवं महिलाओं ने बैंड-बाजों व ढोल की धुनों पर खूब थिरके। रात्रि करीब 10 बजे बाद केशुबावाजी महाराज को मंदिर के सामने विराजित किए जाकर समाज के प्रत्येक परिवार के पुरुषों ने पूजा अर्चना की। वही महिलाओं ने मंदिर परिसर में विराजित सजी धजी दुल्हन रूपी मटकी की पूजा अर्चना कर सुख- समृद्धि की कामना की। मध्य रात्रि के बाद मंदिर परिसर में पूरे विधि विधान के साथ देवपुरुष केशुबावजी महाराज का दुल्हन रूपी मटकी के साथ विवाह संपन्न कराया गया। विवाह के बाद महाआरती हुई। इसके बाद केशुबावाजी महाराज व दुल्हन रुपी मटकी को पूरी धार्मिक आस्था एवं श्रद्धा एवं जयकारों के साथ विदाई दी गई। इस अवसर पर समाजजनों ने सुख- शांति, समृद्धि और खुशहाली की कामनाएं की। महाराजा यशवंतराव होलकर मार्ग स्थित पगलिया वाले स्थान पर केशुबावजी महाराज का विसर्जन किया गया। इसी के साथ पांच दिवसीय केशुबावजी महोत्सव का समापन हो गया। समापन के बाद महाप्रसादी का वितरण किया गया। कार्यक्रम में समाज अध्यक्ष कैलाश मांदलिया, उपाध्यक्ष पन्नालाल भाना, रघुनंदन बंबोरिया, हरिकृष्ण मरमट, मोहनलाल मरमट, सुनील भानपिया, शिवाजी बंबोरिया, राजेश नींबोदिया सहित कई लोग उपस्थित थे।

फोटो - http://v.duta.us/MngBdQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ELnFAAAA

📲 Get Mandsaur News on Whatsapp 💬