[bageshwar] - कई बार मांग उठाने के बाद भी नहीं बनी कृत्रिम झील

  |   Bageshwarnews

कपकोट को कुदरती सौंदर्य के मामले में धनी कहा जाता है। इसके उत्तर भाग में विश्व प्रसिद्ध पिंडारी, सुुंदरढुंगा और कफनी ग्लेशियर समेत कई मनोहारी स्थल हैं। सरयू का उद्गम स्थल समेत नंद और देवीकुंड भी इसी क्षेत्र में हैं। कुदरती सौंदर्य से भरपूर होने के बाद भी सरकारों ने यहां पर्यटन विकास के लिए कुछ खास नहीं किया है। पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए क्षेत्रवासियों द्वारा यहां सरयू में कृत्रिम झील बनाने की मांग कई सालों से उठाई जा रही है। लेकिन शासन स्तर से इस कोई कार्यवाही नहीं की जा रही है।

मालूम हो कि तहसील मुख्यालय के उत्तरी भाग में पिंडारी, सुंदरढुंगा और कफनी ग्लेशियर हैं। जहां बड़ी संख्या में देश विदेश से बड़ी संख्या में सैलानी जाते हैं। सैलानियों के मनोरंजन के लिए यहां कोई व्यवस्थाएं नहीं हैं। नगर से होकर सरयू बहती है। लोगों का कहना है कि यदि नदी पर केदारेश्वर मैदान के पास कृत्रिम झील बनाई जाती तो यहां पहुंचने वाले सैलानियों को झील में नौकायन करने की सुविधा मिलती। पर्यटन बढ़ने के साथ-साथ कई खाली हाथों को भी रोजगार मिलता। लेकिन आज तक किसी का भी ध्यान इस ओर नहीं गया है।...

फोटो - http://v.duta.us/p4RCqQAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/z1qsKQAA

📲 Get Bageshwar News on Whatsapp 💬