[barmer] - संसार में रहो, भीतर नहीं किनारे पर, तभी जीवन नैया पार होगी

  |   Barmernews

संसार में रहो, भीतर नहीं किनारे पर

बाड़मेर . शहर के साधना भवन से रविवार को आचार्य कवीन्द्रसागर का विहार हुआ। इसके बाद जालीपा रोड स्थित एक फैक्ट्री में आयोजित धर्मसभा में आचार्य ने कहा कि संसार में रहो, भीतर नहीं किनारे पर, तभी जीवन नैया पार होगी। सुकृत यानि अच्छा कार्य करने में कभी विलम्ब मत करो। जिस तरह तालाब के किनारे रहकर डूबने से बचा जा सकता है, उसी प्रकार संसार में रहकर उसके भीतर मत फं सो। अपने कत्र्तव्य का निर्वाह करते हुए मन में विरक्त बनकर रहो। संसार रूपी दलदल में यदि पांव डाल दिया तो धंसते जाओगे। इस मौके पर मुनि कल्पतरूसागर ने कहा कि जिस प्रकार पानी बहता भला दिखता है उसी प्रकार साधु चलता ही भला दिखता है। धर्म की प्रभावना में साधु की महिमा अपरंपार है।...

फोटो - http://v.duta.us/gIHSuwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/dUmyjQAA

📲 Get Barmer News on Whatsapp 💬