[bilaspur] - अगहन का पहला गुरुवार 29 को, मां लक्ष्मी की होगी विधि-विधान से आराधना

  |   Bilaspur-Chattisgarhnews

बिलासपुर. मां लक्ष्मी के विशेष पूजन का माह अगहन मास को माना गया है। अगहन मास की शुरुआत हो चुकी है। पहला अगहन गुरुवार २९ नवंबर को अश्लेषा नक्षत्र में विधि-विधान से व्रत पूजन करते हुए किया जाएगा। ज्योतिषाचार्यों के मुताबिक भगवान लक्ष्मी की कृपा पाने का यह उत्तम व्रत माना गया है। इस व्रत में सूर्योदय से पूर्व ही मां लक्ष्मी की पूजा कर आह्वान किया जाएगा। मां लक्ष्मी के प्रतीक चिन्ह बनाकर विधि-विधान से पूजा की जाएगी। ज्योतिषाचार्य एवं वास्तुविद डॉ.उद्धव श्याम केसरी ने बताया कि सूर्योदय से रात्रि तक चार पहर की पूजा करना उत्तम होता है। इस वर्ष अगहन गुरुवार के पहले गुरुवार की पूजा २९ को पड़ रही है इस दिन अश्लेषा नक्षत्र में पूजन कर आशीर्वाद मांगा जाएगा। बुधवार की शाम से ही घर की सफाई करते हुए रात में लक्ष्मीनारायण की मूर्ति स्थापित कर पूजन किया जाएगा। मां लक्ष्मी के प्रतीक चिन्ह के तौर पर लक्ष्मी पांव, स्वास्तिक, कलश जैसे प्रतीक चिन्ह बनाकर गुरुवार को सूर्योदय से पूर्व पूजा की जाएगी। चार पहर सुबह, दोपहर, शाम व रात में कठोर तप करते हुए पूजा की जाएगी। इस बार चार गुरुवार है। इस पूजा में २९ को पहला गुरुवार, ६ दिसंबर को दूसरा, १३ दिसंबर को तीसरा व २० दिसंबर को चौथा गुरुवार होगा।...

फोटो - http://v.duta.us/eqTLJwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/IS0BfgAA

📲 Get Bilaspur-Chattisgarhnews on Whatsapp 💬