[jharkhand] - अन्य कोर्सों की तरह यहां मिलती है मोबाइल चोरी की ट्रेनिंग, बच्चे बनते हैं 'छोटू उस्ताद'

  |   Jharkhandnews

झारखंड के साहेबगंज में दूसरे कोर्सों की तरह मोबाइल चोरी का प्रशिक्षण दिया जाता है. पढ़कर ताजुब्ब लगा होगा, लेकिन ये सौ आने सच है. इसके लिए बच्चों को चुना जाता है और उन्हें मोबाइल चोरी के लिए प्रशिक्षित किया जाता है. जिला मुख्यालय से महज 15 किलोमीटर दूर महाराजपूर गांव में इसका खुला रैकेट चलता है.

महाराजपूर गांव मोबाइल चोरी के रैकेट को लेकर जिले में बदनाम है. खास बात यह है कि यहां मोबाइल चोरी करने के तमाम तरीके बच्चों को सिखाए जाते हैं. घरों में चोरी के प्रशिक्षण का कार्यशाला चलता है. प्रशिक्षण के बाद इन बच्चों को महंगे मोबाइलों पर हाथ साफ करने के लिए शहर भेज दिया जाता है. जहां ये बच्चे मोबाइल चुराकर उन्हें रैकेट के सदस्य के हवाले करते हैं. और फिर उन मोबाइलों को स्थानीय बाजार में लाकर बेचा जाता है. इससे गिरोह को सालाना लाखों की कमाई होती है....

फोटो - http://v.duta.us/WrOkNwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/gy0huQAA

📲 Get Jharkhand News on Whatsapp 💬