[mainpuri] - विचाराधीन बंदी की उपचार के दौरान मौत, लापरवाही का आरोप

  |   Mainpurinews

मैनपुरी। करहल के गांव गोकुलपुर निवासी एक 30 वर्षीय बंदी की जिला अस्पताल में मौत हो गई। जेल प्रशासन की ओर से बंदी के बीमार होने की बात कही गई है। वहीं मृतक परिजनों की ओर से जेल प्रशासन पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है। मृतक 2012 में जानलेवा हमले के एक मामले में जिला कारागार में निरुद्ध चल रहा था।

थाना करहल क्षेत्र के गांव गोकुलपुर निवासी 30 वर्षीय लाखन सिंह उर्फ अर्जेश के विरुद्ध करीब छह वर्ष पूर्व 2012 में गांव में हुए एक झगड़े के बाद जानलेवा हमले का मामला दर्ज कराया गया था। कुछ दिन बाद ही पुलिस ने उसे गिरफ्तार करने के बाद जेल भेज दिया था। तभी से वह जिला कारागार में बंदी है। रविवार की दोपहर तबियत बिगड़ने के बाद बंदी रक्षक उसे उपचार के लिए जिला अस्पताल लेकर पहुंचे। वहां चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। जेल प्रशासन की ओर से मृतक परिजनों को सूचना दी गई तो कुछ ही देर में पोस्टमार्टम हाउस पर आ पहुंचे। परिजनों ने जेल प्रबंधन पर लापरवाही का आरोप लगाया। परिजनों का कहना है कि शनिवार को ही लाखन से तारीख के दौरान मिलने गए थे। उसे घी और कपड़े देकर आए थे। अचानक ऐसा क्या हो गया जो उसकी मौत हो गई। मौत का कारण जानने के लिए पुलिस ने शव का पैनल द्वारा पोस्टमार्टम कराया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/yF9Q-AAA

📲 Get Mainpuri News on Whatsapp 💬