[ujjain] - MP ELECTION 2018 : कांग्रेस नेता अनुशासन की हदें पार करते रहे हैं, भाजपा भी गुटबाजी से अछूती नहीं...

  |   Ujjainnews

उज्जैन से गोपाल स्वरूप वाजपेयी. दोनों ही प्रमुख दल गुटबाजी से जूझ रहे हैं। कांग्रेस में कलह कई बार सतह पर दिख चुकी है। कमलनाथ, सिंधिया व दिग्विजय गुट में बंटे कांग्रेस नेता अनुशासन की हदें पार करते रहे हैं। भाजपा भी गुटबाजी से अछूती नहीं है। इस बार टिकट के तगड़े दावेदार सोनू गहलोत ने शुरू में बगावत का बिगुल बजा दिया था।

मालवा का केंद्र उज्जैन भाजपा का गढ़

उ ज्जैन शहर दो विधानसभा क्षेत्रों में बंटा है। उज्जैन दक्षिण व उज्जैन उत्तर। दक्षिण क्षेत्र में ज्यादातर ग्रामीण इलाके आते हैं, जबकि उत्तर क्षेत्र पूरी तरह से शहरी है। मालवा का केंद्र उज्जैन भाजपा का गढ़ रहा है। उज्जैन उत्तर से पांच बार के विधायक व साढ़े तेरह साल से मंत्री पारस जैन फिर मैदान में हैं। सिर्फ 1998 को छोड़कर करीब तीन दशक से एकतरफा जीत हासिल करते आ रहे पारस के लिए यह चुनाव अग्निपरीक्षा से कम नहीं है। पहली बार इस सीट पर त्रिकोणीय संघर्ष है। कांंग्रेस से बागी होकर निर्दलीय चुनाव लड़ रही माया त्रिवेदी ने कांग्रेस का सिरदर्द तो बढ़ाया ही है, भाजपा के समीकरणों को भी उल्टा-पुल्टा कर दिया है। इसी सीट से एक बार विधायक रह चुके कांग्रेस प्रत्याशी राजेंद्र भारती सत्ताविरोधी रुझान व क्षेत्र में ज्योतिरादित्य सिंधिया के प्रभाव का इस्तेमाल कर दम भर रहे हैं। इस सीट पर ब्राह्मण व मुस्लिम मतदाता बहुल मात्रा में हैं। इस बार ब्राह्मण मतदाताओं के अलावा महिलाओं का रुझान माया की ओर, मुस्लिमों का झुकाव कांग्रेस की ओर दिख रहा है। ऐसे में भाजपा को अपने ठोस वोट बैंक व्यापारी वर्ग से बड़ी आस है।...

फोटो - http://v.duta.us/MZ9RJgAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/VPZ11QAA

📲 Get Ujjain News on Whatsapp 💬