[anuppur] - दो किलोमीटर पैदल स्कूल जाते हैं नि:शक्त छात्र, सामान्य छात्रों के साथ ही ग्रहण करते हैं शिक्षा, स्पेशल एजुेकशन के लिए नहीं है अलग से कोई विद्यालय

  |   Anuppurnews

शहडोल। जिला मुख्यालय स्थित नि:शक्त छात्रावास में रह रहे लगभग 5 नि:शक्त छात्रों के स्पेशल एजुकेशन के लिए कोई समुचित व्यवस्था नहीं है जिससे कि उनके शैक्षणिक स्तर को संवारा जा सके। प्रायमरी तक के बच्चे जहां आस-पास संचालित प्राथमिक पाठशाला व सिंधी भाषा भाषी विद्यालय में सामान्य बच्चों के साथ शिक्षा ग्रहण करते हैं। वहीं कक्षा 6 वीं से 8 वीं तक के लगभग 10 छात्र ऐसे हैं जो छात्रावास से लगभग 2 किलोमीटर दूर शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। यह बच्चे वार्डन के भरोसे पैदल चलकर नगर के बीचो बीच स्थित अर्बन बेसिक स्कूल में अन्य सामान्य बच्चों के साथ शिक्षा ग्रहण करने आते हैं। सामान्य छात्रों के साथ शिक्षा ग्रहण करने वाले कुछ मान्सिक व कुछ शारीरिक रूप से नि:शक्त छात्रों का शैक्षणिक स्तर कितना मजबूज होगा आकलन किया जा सकता है। प्रेरणा फाउण्डेशन व शासन के सहयोग से संचालित सीडब्लयूएसएन छात्रावास में उपलब्ध संसाधनों के माध्यमों से इन्हे प्राथमिक शिक्षा देने का प्रयास किया जा रहा है। इसके अलावा कोई भी व्यवस्था इन नि:शक्तों के लिए नहीं हैं।...

फोटो - http://v.duta.us/IZ7ivwAA

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qyDa1AAA

📲 Get Anuppur News on Whatsapp 💬