👉सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट पर आमने-सामने हुए बीसीसीअाई और😱 सीअाेए चौधरी ने कहा- नहीं करेंगे ✍️हस्ताक्षर

  |   क्रिकेट

बीसीसीआई के कार्यवाहक सचिव अमिताभ चौधरी ने आज अंतरराष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेटरों को सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट देने की प्रक्रिया पर सवाल उठाए और कहा कि इस मामले में किसी भी पदाधिकारी को संज्ञान में नहीं लिया गया।

सीओए सदस्य डायना एडुल्जी ने हालांकि आरोप लगाया कि बीसीसीआई वित्त समिति तीन बार याद दिलाए जाने के बावजूद सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट को दबाए बैठी थी तथा चौधरी सहित सभी पदाधिकारियों को सूचित किया गया था। अक्तूबर 2017 से सितंबर 2018 तक के लिए कॉन्ट्रैक्ट कल घोषित किए गए जिसमें खिलाड़ियों को मिलने वाली धनराशि में काफी बढ़ोतरी की गई है।

चौधरी ने पीटीआई से कहा, ‘मैं पक्के तौर पर आपसे कह सकता हूं कि मैं इस प्रक्रिया का हिस्सा नहीं था। मैं आपको यह भी कह सकता हूं कि बोर्ड से कोई भी इसमें शामिल नहीं था।' चौधरी ने कहा, 'मैं सीनियर चयन समिति का समन्वयक भी हूं और कोई बैठक नहीं बुलाई गई थी। अगर वे (सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट) मेरे पास लाते हैं तो मैं उस पर हस्ताक्षर नहीं करूंगा।'

एडुल्जी ने इसके जवाब में कहा कि चयनकर्ताओं की शनिवार को बैठक हुई थी और उन्होंने खिलाड़ियों के ग्रेड तय किए। एडुल्जी ने कहा, ‘हमने बीसीसीआई वित्त समिति को तीन बार पत्र लिखे (पहली बार अक्तूबर और हाल में जनवरी में), लेकिन जवाब नहीं मिला। अब खिलाड़ियों का बीमा का भी नवीनीकरण होना है इसलिए हमने अनुबंध पर फैसला किया।'

उन्होंने कहा, ‘मैं आपको कह सकती हूं कि चयनकर्ताओं की शनिवार को बैठक हुई और ग्रेड उन्होंने ही तय किए।' ऑफ स्पिनर जयंत यादव और करूण नायर को पिछले एक साल में भारत की तरफ से नहीं खेलने के बावजूद अनुबंध दिया गया है जबकि श्रीलंका दौरे पर गई टीम में शामिल ऋषभ पंत को इसमें शामिल नहीं किया गया है जिस पर सवाल उठ रहे हैं। यहां तक कि वर्ल्ड कप टीम में जगह के दावेदार श्रेयस अय्यर को अनुबंध नहीं मिला है।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/lAxHAAAA

📲 Get क्रिकेट on Whatsapp 💬