🤷‍♂️कानून मंत्री बोले- राहुल ने राजनीतिक लड़ाई बनाने की कोशिश की🤷‍♀️

  |   समाचार

सुप्रीम कोर्ट की ओर से जस्टिस लोया की मौत के मामले की एसआईटी जांच की याचिका खारिज किए जाने के बाद केंद्र में सत्तारुढ़ बीजेपी कांग्रेस पर हमलावर हो गई है. बीजेपी की ओर से एक के बाद एक शीर्ष नेताओं के बयान आ रहे हैं. कोर्ट के फैसले के बाद देश के कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि यह केस जनहित का नहीं कांग्रेस का था.

कानून मंत्री ने कहा कि बीजेपी और बीजेपी के अध्यक्ष के खिलाफ इसको लेकर राजनीतिक लड़ाई बनाने की कोशिश की गई.

जस्टिस लोया मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद बीजेपी कांग्रेस और राहुल गांधी पर काफी आक्रामक हो गई है. पहले बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस और राहुल गांधी पर निशाना साधा, फिर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने राहुल गांधी पर हमला करते हुए कहा, 'कांग्रेस पार्टी को देश से माफी मांगनी चाहिए. पप्पू को अपने पाप पर ध्यान देना चाहिए.' इसके बाद कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने भी बीजेपी मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद राहुल गांधी और कांग्रेस को निशाने पर लिया.

उन्होंने कहा, 'यह केस जनहित का नहीं कांग्रेस हित का था. बीजेपी और बीजेपी के अध्यक्ष अमित शाह के अहित के लिए केस फाइल की गई थी. पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर कलंक लगे, इसलिए इसे फाइल किया गया था. बीजेपी इसकी कड़ी निंदा करती है. राहुल गांधी की ओर से हमारे पार्टी अध्यक्ष के खिलाफ आरोप लगाए गए, यह पूरा का पूरा राजनीति से प्रेरित मामला था. जनहित प्रेरित नहीं था.'

यहां पढें पूरी खबर—http://v.duta.us/hq9MWQAA

रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी से सवाल पूछते हुए कहा कि इस मामले में राहुल गांधी आगे बढ़कर बोल रहे थे. राष्ट्रपति के पास प्रतिनिधिमंडल लेकर गए और हमारे अध्यक्ष के खिलाफ भी आरोप लगाए. बीजेपी के खिलाफ आरोप लगाए, लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट का जो फैसला आया है. उस पर राहुल गांधी को क्या कहना है.

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬