कैश💴 की किल्लत पर बड़ा दावा- स्याही 😲की कमी से नहीं छप रहे 200 और 500 के 🤜नए नोट

  |   समाचार

देश के 10 राज्यों में एटीएम में नकदी की कमी की समस्या अब तक दूर नहीं हुई है। हालांकि सरकारी सूत्र दावा कर रहे हैं कि हालात काफी बेहतर हो गए हैं, लेकिन एटीएम पर पैसे निकालने पहुंच रहे लोगों को अब भी दिक्कत हो रही है। इस बीच नासिक में प्रेस वर्कर्स फेडरेशन के अध्यक्ष जगदीश गोडशे ने बड़ा दावा किया है।

गोडशे के मुताबिक नासिक की करेंसी प्रेस में स्याही की कमी के चलते 200 और 500 के नये नोटों की छपाई नहीं हो पा रही है। ये राष्ट्रीय स्तर में नोटों की कमी की एक बड़ी वजह है। लेकिन उन्होंने यह नहीं बताया कि नोटों की छपाई कब से बंद है। इस पर अभी तक सरकार या आईबीआई की कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

बिहार के दरभंगा में एटीएम में पैसों की कमी एक बड़ी परेशानी का सबब बन गई है। दरभंगा मेडिकल कॉलेज में भर्ती मरीजों को पैसों की भारी किल्लत के कारण इलाज के लिए काफी मुश्किलों सामना कर रहा है। मेडिकल कॉलेज के आसपास सिर्फ एचडीएफसी बैंक के एटीएम में पैसा है लेकिन वहां भी लोगों की लंबी कतार देखी गई।

देवास में नोटों की प्रिटिंग प्रेस में तीन शिफ्ट मे नोटों की छपाई हो रही है। सरकार का कहना है कि वो जल्द ही मार्केट में पांच सौ के ज्यादा नोट सप्लाई करेगी। उधर उत्तर प्रदेश, बिहार, आंध्र प्रदेश, महाराष्ट्र और चुनाव की तैयारी में जुटे कर्नाटक के कई शहरों में एटीएम में नकदी नहीं मिल रही है।

सरकार ने अपनी ओर से दावा किया कि स्थिति में तेजी से सुधार हो रहा है और देश भर के 2।2 लाख एटीएम में से 80 प्रतिशत बुधवार को सामान्य रूप से काम करने लगे। दावे के अनुसार मंगलवार को महज 60 प्रतिशत एटीएम सही से काम कर रहे थे। सबसे बड़े बैंक एसबीअाई ने कहा है कि उसके एटीएम में नकदी की स्थिति में सुधार हुआ है।

यहां पढ़ें पूरी खबर-http://v.duta.us/kTLikAAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬