[allahabad] - उत्पीड़न से तंग आकर पूर्व प्रधानाचार्य ने दी जान

  |   Allahabadnews

उत्पीड़न से तंग आकर जमुना क्रिश्चियन इंटर कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य आरके गवन ने अपनी जान दे दी। उनका शव जमुना मिशन कंपाउंड स्थित घर में फंदे पर लटकता मिला। पुलिस के हाथ एक सुसाइड नोट लगा है। जिसमें गवन ने खुद पर दर्ज मुकदमे को आत्महत्या का कारण बताया है। परिवारवालों का भी आरोप है कि फर्जी मुकदमे में नामजद किए जाने से परेशान होकर उन्होंने यह कदम उठाया। हालांकि पुलिस का कहना है कि सुसाइड नोट की जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।

आरके गवन (78) जमुना क्रिश्चियन इंटर कॉलेज के प्रधानाचार्य पद से रिटायर हुए थे। उनकी पत्नी आईई गवन जमुना क्रिश्चियन जूनियर हाईस्कूल में प्रधानाचार्य रही हैं। तीन बेटों में बड़ा संजय गवन दिल्ली में किसी कंपनी में मैनेजिंग डायरेक्टर है। दूसरा बेटा नीरज ऑस्ट्रेलिया में है, जबकि छोटा डॉ. धीरज गवन पत्नी नीरा व बच्चों के साथ यहीं रहता है। धीरज ने बताया कि बुधवार को उनकी मां किसी के अंतिम संस्कार में शामिल होने गई थीं। शाम करीब साढ़े चार बजे नीरा ससुर के कमरे की ओर गई तो दरवाजा खुला था।

भीतर का नजारा देख उसकी चीख निकल गई। गवन फांसी पर लटके हुए थे। पत्नी की चीख सुनकर धीरज पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। उन्होंने पिता को फंदे से नीचे उतारा, लेकिन तब तक उनकी सांसें थम चुकी थीं।

जानकारी पर बड़ी संख्या में आसपास के लोग जुट गए। सूचना पर मुट्ठीगंज इंस्पेक्टर निशिकांत राय मय फोर्स मौके पर पहुंचे। जांच पड़ताल के दौरान पुलिस को बिस्तर पर एक सुसाइड नोट मिला। जिसमें फर्जी मुकदमे में फंसाने का जिक्र किया गया है।

परिजनों का आरोप है कि करीब चार महीने पहले कुछ लोगों ने पूर्व प्रधानाचार्य समेत कई लोगों के खिलाफ मुट्ठीगंज थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई थी। इसे लेकर वह काफी परेशान थे। इसी वजह से उन्होंने फांसी लगाकर जान दे दी। यह मुकदमा पिछले साल पूर्व काशी नरेश महाराज अनंत नारायण सिंह की इलाहाबाद में स्थित संपत्तियों के केयरटेकर रुद्र नारायण पाठक की ओर से मुट्ठीगंज थाने में दर्ज कराया गया था। इंस्पेक्टर निशिकांत राय ने बताया कि सुसाइड नोट की जांच की जाएगी। पुलिस मामले की पड़ताल में लगी है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/tC1OegAA

📲 Get Allahabad News on Whatsapp 💬