[baghpat] - सराय डकैती में सात आरोपियों पर दोष सिद्ध, दो बरी

  |   Baghpatnews

बागपत। कस्बा अमीनगर सराय में 10 साल पहले सराफ अनिल कुमार जैन के घर पड़ी लाखों की डकैती के मामले में एडीजे स्पेशल मनु कालिया की कोर्ट में सात अभियुक्तों पर दोष सिद्ध हो गया है। सजा के प्रश्न पर 20 अप्रैल को सुनवाई होगी। वादी के अधिवक्ता विक्रम सिंह खोखर ने बताया कि अमीनगर सराय निवासी सराफ अनिल कुमार जैन और उसकी पत्नी संजीता जैन 17 जून 2008 को सुबह पांच बजे घूमने गए थे। घर में उनका बेटा पुनीत जैन कमरे में सो रहा थी। इसी दौरान पांच बदमाश मकान में घुसे। उनके कुछ साथी बाहर खड़े थे। बदमाशों ने बेटे को तमंचों के बल पर बंधक बना लिया। इसी दौरान उनकी पत्नी संजीता भी पहुंच गई। बदमाशों ने उसे भी बंधक बनाकर सोने-चांदी के जेवरात सहित लाखों रुपये लूट लिए थे और जान से मारने की धमकी देकर भाग गए। इस मामले में अनिल कुमार जैन ने सिंघावली अहीर थाने में अज्ञात में रिपोर्ट दर्ज कराई। तीन जुलाई 2008 को पिलाना-ढिकौली मार्ग पर मुठभेड़ के बाद पुलिस ने फरहान, संजू समेत तीन बदमाशों को पकड़ा।बदमाशों ने अमीनगर सराय में हुई डकैती की घटना को कबूल कर अपने साथियों के नाम भी पुलिस को बताए । पुलिस जांच में शकील पुत्र सिद्दीकी, जिला उल पुत्र सिद्दीकी, फरहान पुत्र मइनूद्दीन, महेश पुत्र रामनारायण, कुलदीप पुत्र वीर सिंह जाटव निवासी पिलखुवा जनपद हापुड़ , दिलशाद पुत्र अनवर जोगी मेरठ, संजू उर्फ संजय पुत्र कृष्णपाल कश्यप सुजानपुर अखाड़ा गाजियाबाद, नदीम पुत्र बाबू और जलीस निवासी अमीनगर सराय बागपत के नाम प्रकाश में आए । पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर जेल भेजा। बाद में आरोप पत्र में पुलिस ने शमशेर और अनीसा निवासी अमीनगर सराय के नाम भी दाखिल किए। आरोपी शमशेर अब हाल में अमीनगर सराय में सभासद है। यह मामला एडीजे स्पेशल मनु कालिया की कोर्ट में चल रहा है। इस मामले में 24 गवाहों की गवाही हुई। एक अभियुक्त महेश पुत्र राम नारायण की निवासी पिलखुवा की पूर्व में मौत हो गई । बुधवार को कोर्ट में सात अभियुक्तों पर दोष सिद्ध हो गया। जबकि कोर्ट ने अनीसा और जलीस को दोष मुक्त कर दिया है। सजा के प्रश्न पर 20 अप्रैल को सुनवाई होगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/UgiduQAA

📲 Get Baghpat News on Whatsapp 💬