[shahjahanpur] - बाघ देख हड़बड़ाया चालक, पेड़ से टकराई कंबाइन

  |   Shahjahanpurnews

बाघ देख हड़बड़ाया चालक, पेड़ से टकराई कंबाइनतीन माह से क्षेत्र में घूम रहा है बाघ, वन अधिकारी खामोश अमर उजाला ब्यूरो बंडा। क्षेत्र में घूम रहे बाघ ने तीन माह से गांव नवदिया बंकी, अखत्यारपुर धौकल, कुइयां महोलिया, मकसूदापुर सहित एक दर्जन से अधिक गांव के लोगों को चिंता में डाल रखा है। वन अधिकारी भी जानते हैं कि बाघ उक्त गांवों के आसपास घूम रहा है। कई बार बाघ के पगचिह्न भी ट्रेस किए जा चुके हैं, लेकिन बाघ को जंगल की ओर खदेड़े जाने की कार्रवाई नहीं की गई है। मंगलवार रात गांव भांवी निवासी बिंदा सिंह अपनी कंबाइन लेकर गांव कुइयां महोलिया क्षेत्र में गेहूं काटने गए थे। नहर के किनारे वह लघुशंका करने कंबाइन से उतरे तो कुछ ही दूर बाघ खड़ा देख वह दौड़कर कंबाइन पर चढ़े और कंबाइन भगा दी। हड़बड़ाहट में वह कंबाइन से नियंत्रण खो बैठे और कंबाइन एक पेड़ से टकरा गई। गनीमत रही कि कंबाइन पर बैठे लोग घायल होने से बच गए। बुधवार सुबह गांव कुइयां महोलया के करनैल सिंह और सोहन सिंह कहीं जा रहे थे। शारदा नहर के किनारे नाले के पास बाघ देख दोनों लोग शोर मचाते हुए भाग खड़े हुए। शोर सुनकर गांव के तमाम लोग भी लाठी, डंडे लेकर मौके पर आए। इस बीच बाघ नहर के किनारे खड़ी ऊंची घास में छिप गया। वन दरोगा संजीव कुमार ने मौके पर पहुंच कर बाघ के पगचिह्न ट्रेस किए। गांव के लोगों ने वन अधिकारियों के प्रति रोष है। उनका कहना है कि रेंजर फोन ही रिसीव नहीं करते हैं। ----- गर्मी के कारण नहर के किनारे बनाया बसेरा बाघ गर्मियों में पानी के किनारे ही रहता है और आसपास ही शिकार आदि करता है। गर्मी शुरू होते ही बंडा क्षेत्र में घूम रहे बाघ ने भी शारदा नहर झाल के पास से लेकर नहर पटरी के किनारे और गांव कुइयां महोलिया की ओर जाने वाले कच्चे रास्ते के आसपास डेरा जमा लिया है। इससे लोग दहशत में है। गांव के लोगों का कहना है कि बाघ कभी भी किसी व्यक्ति पर हमला कर जान ले सकता है। 00 नहर पटरी से दिन रात रहता है आवागमन बंडा-बिलसंडा मार्ग पर गांव मकसूदापुर में बजाज ग्रुप की चीनी मिल और पावर प्लांट हैं। मकसूदापुर से उत्तर की ओर तमाम गांवों के लोग शारदा नहर की पटरी पर से ही आते-जाते हैं। तमाम किसान चीनी मिल को गन्ना लेकर इधर से गुजरते हैं और मिल में काम करने वाले स्थानीय लोग भी नहर पटरी से ही आते हैं। नहर पटरी से दिन रात लोगों का आवागमन बना रहता है। ऐसे में लोगों की जान को हर समय खतरा है। वन दरोगा संजीव कुमार का कहना है कि लोगों का सतर्क रहने को कहा गया है और अधिकारियों को भी बाघ की जानकारी दी जा चुकी है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/REQDBAAA

📲 Get Shahjahanpur News on Whatsapp 💬