[varanasi] - काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा को इस फोर्स के हवाले करने की तैयारी

  |   Varanasinews

काशी विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र, राम जन्मभूमि, कृष्ण जन्मभूमि और ताजमहल की सुरक्षा व्यवस्था के लिए प्रदेश सरकार श्राइन सिक्योरिटी फोर्स (एसएसएफ) के गठन पर विचार कर रही है।

इस बात के संकेत बुधवार को प्रदेश के एडीजी (सुरक्षा) विजय कुमार के समक्ष आयोजित काशी विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद परिसर की हाई पॉवर कमेटी की बैठक में मिले। इसके लिए आवश्यकतानुसार जमीन तलाशने के साथ ही अन्य कवायदें शुरू करने की बात कही गई है।

अधिकारियों ने बताया कि एसएसएफ के गठन के बाद अर्धसैनिक बलों के जवानों को तैनात करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। एडीजी के सामने बैठक में काशी विश्वनाथ मंदिर के सीईओ और सीआरपीएफ के जवान के बीच सुरक्षा व्यवस्था को लेकर नोकझोंक का मसला उठा।

उन्होंने दो टूक कहा कि सुरक्षा मानकों के आगे कोई वीवीआईपी नहीं है। पुलिस, पीएसी और सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्स (सीपीएमएफ) के जवान मुस्तैदी के साथ ड्यूटी करें। यदि कोई वीवीआईपी की आड़ में सुरक्षा व्यवस्था को प्रभावित करने की कोशिश करे तो उसके खिलाफ सुरक्षा मुख्यालय को रिपोर्ट भेजी जाए।

बैठक के बाद एडीजी ने बताया कि प्रस्तावित काशी विश्वनाथ कॉरिडोर में पुलिस, पीएसी, सीपीएमएफ, फायर ब्रिगेड और खुफिया इकाइयों के लिए अत्याधुनिक कमांड सेंटर बनाया जाना है। इस कमांड सेंटर से मंदिर परिक्षेत्र और मस्जिद परिसर के चप्पे-चप्पे की निगहबानी की जा सकेगी।

जैसे-जैसे कॉरिडोर का काम पूरा होता जाएगा फोर्स की संख्या बढ़ती जाएगी। बताया कि मंदिर परिक्षेत्र की सुरक्षा में तैनात सीआरपीएफ के जवानों के आवास के लिए बाबतपुर के समीप जमीन उपलब्ध कराने के लिए जिला प्रशासन के स्तर से कार्रवाई हो रही है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/J4xaxwAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬