👉एच-1बी वीजाधारकों के 👫 जीवनसाथी नहीं कर सकेंगे नौकरी😢

  |   समाचार

टर्ंप सरकार एक बार फिर एच-1बी वीजाधारकों के लिए चौंकाने वाले नए नियम लाने जा रही है । टर्ंप प्रशासन उस प्रावधान को खत्म करने जा रहा है जिसके तहत एच-1बी वीजाधारकों के पति/पत्नी को वर्क परिमिट जारी हो जाता था । यानी अब पति के पास H-1B वीजा है, तो पत्नी को काम करने की अनुमति नहीं होगी। इसी तरह पत्नी के पास वीजा होने पर पति को वर्क परमिट नहीं मिलेगा।

संघीय एजेंसी के एक शीर्ष अधिकारी ने यह जानकारी दी। माना जा रहा है कि इस कदम से हजारों भारतीयों पर असर पड़ेगा। बराक ओबामा के कार्यकाल में जीवनसाथी को वर्क परमिट देने के इस फैसले को खत्म करने से 70,000 से अधिक एच-4 वीजाधारक प्रभावित होंगे। एच-4 वीजा एच-1बी वीजाधारक के जीवनसाथी को जारी किया जाता है। इनमें से बड़ी संख्या में भारतीय कुशल पेशेवर हैं।

उन्हें यह वर्क या वर्क परमिट ओबामा प्रशासन के कार्यकाल में जारी विशेष आदेश के जरिए मिला था। इस प्रावधान का सबसे अधिक फायदा भारतीय-अमेरिकियों को मिला था। 1 लाख से अधिक एच-4 वीजा धारकों को इस नियम का लाभ मिल चुका है। ओबामा प्रशासन के 2015 के नियम के अनुसार एच-1बी वीजा धारकों के जीवनसाथियों को वर्क परमिट की अनुमति दी थी।

इसका दूसरा रास्ता यह है कि एच-1बी वीजाधारक स्थानीय निवासी का दर्जा हासिल करें। इस प्रक्रिया में एक दशक या अधिक का समय लगता है। ऐसे में ओबामा प्रशासन के इस नियम से उन एच-1बी वीजाधारकों को फायदा हुआ था , जिनके जीवनसाथी भी अमेरिका में नौकरी करना चाहते हैं। ट्रंप प्रशासन इस प्रावधान को समाप्त करने की योजना बना रहा है। इन गर्मियों में इस बारे में औपचारिक घोषणा हो सकती है।

माइग्रेशन पॉलिसी इंस्टिट्यूट की एक स्टडी के मुताबिक, अमेरिका ने एच-1बी वीजा धारकों के 71 हजार पति/पत्नी को वर्क परमिट जारी किया था। इनमें से 90 प्रतिशत से अधिक भारतीय थे। 2017 की शुरुआत तक जिन लोगों को इस प्रावधान के तहत वर्क परमिट मिला उनमें 94 प्रतिशत महिलाएं थीं ।

फोटो के लिए देखें- http://v.duta.us/ydADgwAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬