[chitrakoot] - यूपी के पिछड़े आठ जिलों में चित्रकूट में पहला सेमिनार

  |   Chitrakootnews

यूपी के पिछड़े आठ जिलों में चिहिंत चित्रकूट में उद्योग लगाने की संभावना को लेकर केंद्र सरकार की राज्यमंत्री की मौजूदगी में सेमीनार हुआ। जिसमें केंद्र सरकार के कई प्रतिनिधि व प्रदेश सरकार के भी प्रतिनिधियों ने भरोसा दिलाया कि बुंदेलखंड के विकास को प्राथमिकता देने की आवश्यकता है। जिसमें धर्मनगरी का विकास हरिद्वार की तर्ज पर हो सकता है। यहां जड़ी बूटी, महुंआ, चिरौंजी, आलू, टमाटर, आंवला जैसे फल प्रचुर मात्रा में हैं। उम्मीद है कि मेघा फूड़ पार्क भी यहां खुल सकता है। इसके लिए उद्यमियों को 100 प्रतिशत एफडीआई में छूट दी जाएगी और सरकारी ऋण पर 35 प्रतिशत तक माफी मिलेगी। डिफेंस कॉरीडोर व बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे की शुरुआत होने पर इसी क्षेत्र का विकास होगा।

केंद्र सरकार ने अपने वादे को पूरा करने के लिए यूपी के विकास का काम शुरू कराया है। यूपी के चिहिंत पिछड़े आठ जिलों में चित्रकूट में पहला सेमीनार हुआ। जिसमें उद्यमियों को आगे आकर रोजगार के अवसर दिलाने को प्रेरित किया गया है। सेमीनार का शुभारंभ कर केंद्रीय खाद्य प्रसंस्करण राज्यमंत्री साध्वी निरजंन ज्योति ने कहा कि पहले यह क्षेत्र डकैतों के नाम से जाना जाता था लेकिन अब अपराधी प्रदेश छोड़ रहे हैं। प्रधानमंत्री ने बुंदेलखंड के विकास के लिए जो एजेंडा तैयार कराया है उसमें मेघा फूड पार्क प्रमुख है। पूरे यूपी में तीन ऐसे पार्क बनेंगे। जिसमें एक बुंदेलखंड में हो सकता है। प्रधानमंत्री किसान संपदा योजना में 2022 तक किसानों को उत्पादन का दोगुना दाम दिलाने के लिए प्रयास जारी हैं। यूपी में पहले अराजकता व असुरक्षा का माहौल था अब भाजपा की सरकार बनने पर तमाम उद्योगपति निवेश को तैयार हैं। उनसे चित्रकूट की धरती पर भी उद्योग लगाने को प्रेरित किया जाएगा। 2008 से 2014 तक देश में सिर्फ दो मेघा फूड पार्क थे। 2014 से 2018 तक इनकी संख्या 18 पहुंच गई है। 12 नए पार्क का प्लान तैयार है। बुंदेलखंड पिछड़ा कहना गर्व नहीं शर्म की बात है। इस व्यथा को दूर किया जा रहा है।

नीति आयोग की जिला प्रभारी अर्चना अग्रवाल ने कहा कि इस क्षेत्र में फल व अनाज प्रचुर मात्रा में है। केंद्र सरकार के अपर सचिव डा.डीएस गंगवार, सांसद भैरों प्रसाद, विधायक चंद्रिका प्रसाद उपाध्याय, विधायक आरके सिंह पटेल, प्रदेश सरकार के विशेष सचिव जिला नोडल अधिकारी डा.बलकार सिंह, जिलाधिकारी विशाख जी अय्यर ने भी चित्रकूट क्षेत्र में उद्योग की संभावना को बताया। मैन पावर, भूमि व प्राकृतिक संपदा पर्याप्त है। पूंजी लगाने की जरूरत है। इसके लिए विभाग हर तरह की सुविधा दे रहा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/qZ2amgAA

📲 Get Chitrakoot News on Whatsapp 💬