[patiala] - रयात बाहरा कैंपस

  |   Patialanews

रयात बाहरा के स्टूडेंट्स ने डिजाइन की एचपीवी कारबंजर जगह पर पहुंचने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है अमर उजाला ब्यूरोपटियाला। रयात बाहरा पटियाला कैंपस के मेकेनिकल इंजीनियरिंग ब्रांच के विद्यार्थियों ने एक मानवीय संचालन व्हीकल (एचपीवी) विकसित किया है। इसे ताकतवर मांसपेशी शक्ति से चलाया जाता है। मेकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रमुख इंजीनियर मनदीप सिंह ने कहा कि इस वाहन में कोई भी स्वचालित प्रक्रिया यूनिट स्थापित नहीं है। यह 30 किलोमीटर प्रति घंटे की गति तक चल सकता है। एचपीवी में कोई भी इंजन न होने के कारण, यह कोई भी नुकसानदेह गैसों नहीं छोड़ता और न ही इस के लिए किसी कुदरती स्रोत के प्रयोग की जरूरत पड़ती है। इस एचपीवी कार को बहुत कम लागत के साथ तैयार किया जा सकता है और बंजर जगह पर पहुंचने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है। इंजीनियर मनदीप सिंह ने अंतिम साल के विद्यार्थियों अमृतपाल सिंह, बलराज सिंह, परमवीर सिंह, दीपक सिंगला, रोहन मित्तल, ईशवजीत सिंह के साथ इस मानवीय संचालन व्हीकल को डिजाइन किया है। यह व्हीकल दो मेकेनिकल लीवर से चलाया जाता है, जो वाहन को आगे बढ़ाने के लिए और आगे-पीछे मोड़ने में मानवीय हाथों की सहायता करते हैं। एचपीवी में दो व्यक्तियों की सीटें होती हैं और दोनों एक ही समय में वाहन चलाने के लिए अपनी मांसपेशी शक्ति का योगदान डाल सकते हैं। कैंपस डायरेक्टर डा. पियूष वर्मा ने विद्यार्थियों को उत्साहित किया।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/01_KTgAA

📲 Get Patiala News on Whatsapp 💬