[pratapgarh] - एक्शन में योगी, अधिशासी अभियंता की गिरफ्तारी का फरमान

  |   Pratapgarhnews

मुख्यमंत्री बनने के बाद सोमवार को पहली बार प्रतापगढ़ पहुंचे योगी आदित्यनाथ के कानून व्यवस्था और भ्रष्टाचार पर तेवर तल्ख रहे। उन्होंने जल निगम में करोड़ों के घोटाले के दर्ज मुकदमे में 24 घंटे के भीतर पूर्व अधिशासी अभियंता (एक्सईएन) की गिरफ्तारी का फरमान सुनाया।

साथ ही संबंधित एई और जेई को निलंबित करने का निर्देश अधीक्षण अभियंता तो दिया। जिले में बढ़ रहे अपराध पर भी उन्होंने एसपी को खूब खरी-खरी सुनाई। इस दौरान मॉडल स्कूलों का संचालन न होने पर सीएम ने जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआईओएस) को फटकार भी लगाई। योगी ने आंकड़ों की बाजीगरी से अफसरों को दूर रहने की हिदायत देते हुए कहा कि धरातल पर दिखें काम।

विकास भवन में सोमवार को जिले की कानून व्यवस्था और विकास कार्यो की समीक्षा के दौरान योगी एक्शन में नजर आए। एसपी संतोष कुमार सिंह द्वारा पेश किए गए आंकड़ों पर सीएम असंतुष्ट नजर आए। उन्होंने एसपी को फटकार लगाई और कहा कि अगर बदमाशों से मुठभेड़ हो रही है और आरोपी गिरफ्तार हो रहें तो भी जिले में अपराध क्यों कम नहीं हो रहे। जलनिगम में करोड़ों रुपये के घपले के मामले में पूर्व अधिशासी अभियंता राजेश खरे एवं ठेकेदार को 24 घंटे में गिरफ्तार करने और आरोप साबित होने पर उनकी संपत्ति जब्त करने का निर्देश सीएम ने दिया।

साथ ही जिले से स्थानांन्तरित तत्कालीन सहायक अभियंता एके श्रीवास्तव, अवर अभियंता सुधीर श्रीवास्तव को अधीक्षण अभियंता से निलंबित करने और सभी को गिरफ्तार करने को कहा। सीएम ने पंडित दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना में कागज पर विद्युतीकरण करके करोड़ों रुपये हजम करने वाली आरकेईसी कंपनी के संचालक की गिरफ्तारी करने को कहा।

सांसद विनोद सोनकर के प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना में घपले का मामला उठाने पर सीएम ने विशेष टीम गठित करके जांच कराने की बात कही। शहर में साफ-सफाई व्यवस्था पर भी सीएम नाराज दिखे। उन्होंने स्वास्थ्य विभाग और आपूर्ति विभाग की भी पेंच कसते हुए गांव के अंतिम व्यक्ति को योजना का लाभ पहुंचाने का निर्देश दिया।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/0p5muwAA

📲 Get Pratapgarh News on Whatsapp 💬