[shimla] - परिचालक हड़ताल पर, 200 रूटों पर नहीं चली बसें

  |   Shimlanews

अमर उजाला ब्यूरोशिमला। प्रशिक्षित परिचालकों की हड़ताल के कारण सोमवार को राजधानी शिमला सहित जिले भर में परिवहन सेवाएं बुरी तरह प्रभावित हुईं। हड़ताल के चलते जिला शिमला में 200 से अधिक रूट प्रभावित हुए हैं। राजधानी शिमला में लोकल रूटों पर बस सेवा बुरी तरह चरमरा गई। बस स्टॉपों पर बसों के इंतजार में लोगों को जमावड़ा लगा रहा लेकिन बसें नहीं आईं। सामान्य के मुकाबले कम संख्या में बसें चलने के कारण बसों में भारी ओवरलोडिंग रही जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा।शिमला शहर में ग्रामीण रूटों पर रवाना होने वाली थाची, सरोग, रौड़ी, शाहल चनोग, कजैल, क्यारकोटी, नीन, रामनगरी, सुराला, धाली, भराड़ी, लागड़ूू, क्लीमू, नालहट्टी, धार कुफर, गुसाण, विकासनगर, शगीण, लालपानी, एमआई रूम, सांगटी, बसंत बिहार, गुसाण, धमून, जतोग, चक्कर, संजौली, कुमार हाउस, केलटी, बरमू सहित अन्य रूटों पर बसें रवाना नहीं हुई। तारादेवी डिपो के तहत माटल नेरवा, थरोला कोटखाई, देवत चौपाल, नेरीधार, कोटदरबार, कड़योग और धमांदरी रूट पर बसें नहीं भेजी जा सकी। उधर शिमला ग्रामीण डिपो के तहत धरोगड़ा, शाड़ानाला, माहौरी, गागनघाटी और रेकटू रूट पर बसें नहीं गई। ---हड़ताल से प्रभावित हुईं बस सेवाएंप्रशिक्षित परिचालकों के हड़ताल पर जाने के कारण बस सेवाएं प्रभावित हुई हैं। शिमला शहर में स्कूल टाइम पर सभी बसें चलाई गई हैं, इसके अलावा ऐसे रूटों पर जहां सिंगल बस सर्विस है बसें चलाने का प्रयास किया गया है।- देवासेन नेगी, क्षेत्रीय प्रबंधक, एचआरटीसी ---दावा, कोई स्कूल टाइम नहीं हुआ मिसएचआरटीसी ने दावा किया है कि प्रशिक्षित परिचालकों की हड़ताल के बावजूद सोमवार को शहर में चलने वाली किसी भी स्कूल बस का टाइम मिस नहीं हुआ है। शहर में एचआरटीसी की करीब 50 स्कूल बसें चलती हैं। एचआरटीसी का दावा है कि सभी बसें निर्धारित समय पर बच्चों को लेकर स्कूल पहुंची और छुट्टी होने पर बच्चों को वापिस भी छोड़ा---छुट्टियों से वापस बुलाए कंडक्टर, ड्राइवरों ने भी की कंडक्टरीहड़ताल के चलते कंडक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए एचआरटीसी ने छुट्टी पर गए कंडक्टरों को भी वापिस बुला लिया है। शिमला लोकल, ग्रामीण और तारादेवी डिपो के एक दर्जन कंडक्टर सोमवार को छुट्टी छोड़ वापिस काम पर लौट आए। रूटों पर बसें भेजने के लिए कई जगह ड्राइवरों को भी बतौर कंडक्टर बसों में भेजा गया।---बसों का इंतजार करते रहे लोग, रूट मिस होने की सूचना नहींटूटीकंडी आईएसबीटी, ओल्ड बस स्टैंड, लक्कड़ बाजार बस स्टैंड और ढली में लोग बसों के इंतजार में घंटों खड़े रहे लेकिन बसें नहीं आईं। बस रूट मिस होने को लेकर बस अड्डों में यात्रियों को कोई सूचना नहीं दी गई। घंटों इंतजार के बाद लोगों को ओवरलोड बसों में सफर करना पड़ा। कुछ लोग टैक्सियां लेकर गंतव्य की ओर जाने को मजबूर हुए।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/TNgABgAA

📲 Get Shimla News on Whatsapp 💬