[aligarh] - ‘मैने भी देखने की हद कर दी, वह भी तस्वीर से निकल आया..’

  |   Aligarhnews

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़।

एएमयू के वीमेंस कॉलेज ऑडिटोरियम में अखिल भारतीय मुशायरे का आयोजन वकार मानवी की अध्यक्षता में किया गया। देर रात तक श्रोता एक से एक शब्दों की खुशबू का आनंद लेते रहे।

दिल्ली उर्दू अकादमी के चेयरमैन प्रो. शहरपर रसूल ने ‘मैंने भी हद कर दी, वह भी तस्वीर से निकल आया’ रचना सुनाकर दर्शकों की वाह-वाही लूटी। वहीं पटना से आए आलम खुर्शीद ने कहा कि ‘बहुत हंसने की आदत का यहीं अंजाम होता है, कि हम रोना भी चाहें तो कभी रोया नहीं जाता’।

रायपुर से आए अजहर इनायती ने ‘अपनी तस्वीर बनाओगे तो होगा अहसास, कितना दुश्वार है खुद को कोई चेहरा देना’ सुनाकर श्रोताओं का मन मोह लिया।

राशिद अनवर राशिद ने ‘एक कतरा ही सही आंखों में पानी तो रहे, ए मोहब्बत तेरे होने की निशानी तो रहे’ सुनाकर तालियां बटोरी। कार्यक्रम का संचालन डॉ. शारिक अकील ने किया।

इस अवसर पर प्रो. नइमा खातून, प्रो. दुर्रानी कासमी, अजहर इनायती, सुहैल फारूकी, महताब हैदर नकवी, डॉ. फुरकान संभली आदि मौजूद थे। इस कार्यक्रम में प्रसिद्ध शायर मुनव्वर राना भाग लेने वाले थे, लेकिन किसी कारण से वे नहीं आ सकें।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/DfH6DAAA

📲 Get Aligarh News on Whatsapp 💬