[aligarh] - लूट के बाद हत्या के मामले में दो को उम्रकैद की सजा

  |   Aligarhnews

क्राइम डेस्क, अमर उजाला, अलीगढ़।

अपर सत्र न्यायाधीश-सात अजय कुमार त्रिपाठी के न्यायालय से ग्रामीण की हत्या और लूट के मामले में दो आरोपियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई है। 18 साल पुराने इस मामले में न्यायालय ने एक आरोपी को दोषमुक्त कर दिया है।

अभियोजन पक्ष के अधिवक्ता एडीजीसी गवेंद्र सिंह व गजेंद्र यादव के अनुसार फकरुद्दीन पुत्र गुलशेर मेवाती निवासी नगला भीका थाना मडराक द्वारा थाना सासनी में यह मुकदमा दर्ज कराया गया कि उसका तहेरा भाई जफरुद्दीन उर्फ मुंशी जी पुत्र रहमत खां 15 नवंबर 1999 को 15 हजार रुपये लेकर अपने लड़के हनीफ के साथ भैंस खरीदने के लिए घंटरबाग पशु पैंठ गए थे।

वहां 36,00 रुपये में भैंस खरीद कर अपने लड़के को दे दी। उस समय जफरुद्दीन के साथ नत्थी बौहरे पुत्र झुम्मनलाल निवासी विदिरिका थाना मडराक, चंद्रपाल स्वामी जी पुत्र रामपाल व गीतम पुत्र बुद्धा निवासी विदिरिका मडराक भी थे। हनीफ को भैंस देते समय इन लोगों ने उससे यह कहा था कि वह अपने घर जाए, मुंशी जी हमारे साथ आएंगे।

जब वह देर रात तक नहीं लौटे तो परिजनों ने तलाश की। खोजते-खोजते परिजनों को एक सरसों के खेत में जफरुद्दीन की लाश मिली। थाने में दर्ज कराई रिपोर्ट में आरोप लगाया कि नत्थी बौहरे, चंद्रपाल, महावीर, गीतम ने जफरुद्दीन उर्फ मुंशी जी की हत्या कर 11,400 रुपये लूट लिए। हत्या की रिपोर्ट दर्ज करने के बाद पुलिस ने मामले में विवेचना शुरू की और आरोप पत्र दाखिल किया।

मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट ने एक अभियुक्त रमेश को दोष मुक्त कर दिया है, जबकि महावीर व नत्थी बौहरे को दोषी मानते हुए आजीवन कारावास व अर्थदंड की सजा सुनाई है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/93KY-wAA

📲 Get Aligarh News on Whatsapp 💬