[meerut] - शताब्दी नगर में गैस का रिसाव, सात की हालत बिगड़ी

  |   Meerutnews

परतापुर के शताब्दी नगर स्थित एक फैक्ट्री में रिफलिंग के दौरान क्लोरीन गैस का रिसाव हो गया। इसकी तीव्र गंध से आसपास की कॉलोनियों में अफरातफरी मच गई। दो बच्चों समेत सात लोगों की हालत बिगड़ गई।

शताब्दी नगर सेक्टर तीन मेंकंसल इंडस्ट्रीयल गैसेज प्रा. लि. है। इसमें क्लोरीन के बडे़ सिलेंडरों से छोटे सिलेंडरों में गैस भरकर सप्लाई की जाती है। पुलिस के अनुसार शुक्रवार सुबह करीब 11:30 बजे फैक्ट्री में गैस रिफलिंग के दौरान रिफिल का वाल्व खराब हो गया, जिससे गैस का रिसाव होने लगा। गैस की गंध आसपास की बस्तियों तक पहुंच गई। लोगों की आंखों में जलन और उलटियां होने लगीं। इंद्रापुरम बस्ती में दो बच्चों सहित सात को चिकित्सकों के यहां ले जाना पड़ा। सूचना पर परतापुर पुलिस, परतापुर फायर स्टेशन से फायर ब्रिगेड की गाड़ियां मौके पर पहुंचीं। दमकल कर्मी मास्क लगाकर जुट गए। गैस का प्रभाव कम करने को फैक्ट्री में पानी का छिड़काव किया गया। इस बीच फैक्ट्री कर्मियों ने वाल्व को बदलकर रिसाव रोका। सीओ ब्रह्मपुरी अखिलेश भदौरिया, चीफ फायर ऑफिसर अजय शर्मा, परतापुर एफएसओ मुकेश कुमार भी मौके पर पहुंचे। फैक्ट्री संचालक रोहित कंसल ने बताया कि गैस रिफलिंग के दौरान रिफिल की चूड़ी टूट गई थी। कर्मचारियों ने मास्क पहन वाल्व बदलकर गैस रिसाव रोका।

फैक्ट्री संचालक से मांगे कागजात

दमकल विभाग के एफएसओ मुकेश कुमार के अनुसार फैक्ट्री में 100 किलो के सिलेंडर से 10 किलो के सिलेंडर में गैस भरी जा रही थी। फैक्ट्री मालिक ने संबंधित विभाग का लाइसेंस होने का दावा किया है। उनसे कागजात दिखाने को कहा गया है।

बच्चों को उठाकर दौड़ी

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार गैस रिसाव के वक्त इंद्रापुरम में राजेंद्र के दो बच्चे लक्की और अमन गली में खेल रहे थे। गैस की गंध से दोनों को चक्कर आने लगे। यह देख पड़ोस में रहने नीता दोनो को गोद में उठाकर तेजी से घर के अंदर भागी, लेकिन खुद भी बेहोश होकर गिर गई। इसके अलावा कॉलोनी की मीना, मांगी, सुनील और सोनू की हालत भी खराब हो गई। लोगों ने बताया कि करीब तीन-चार साल पहले भी इस फैक्ट्री में गैस रिसाव हुआ था।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/V3RcCwAA

📲 Get Meerut News on Whatsapp 💬