[moradabad] - शहर में बवाल न करा दे बिजली कर्मचारियों की जिद

  |   Moradabadnews

मुरादाबाद।
बिजली कर्मचारियों की जिद कहीं शहर में बवाल न करा दे। शाम पांच बजे के बाद और अगले दिन दस बजे तक के बीच कहीं कोई फाल्ट, लाइन टूटने ट्रांसफार्मर फुंकने की शिकायत आए तो उसे दुरुस्त नहीं किया जा रहा है। जिस बिजली उपभोक्ताओं को खासी परेशानियां झेलने पड़ रहीं हैं। सरकार ने बिजली व्यवस्था को निजी हाथों में सौंपने जाने का फैसला सरकार ने वापस ने लिया है। इसके बाद भी बिजली कर्मचारी अन्य मांगों को लेकर धरने पर बैठे हैं। जिसे लेकर लोगों में बिजली विभाग के खिलाफ गुस्सा पनपता जा रहा है। खुफिया तंत्र ने भी अपनी रिपोर्ट तैयार शासन को भेजी है।
शासन ने मुरादाबाद समेत पांच जनपदों में बिजली व्यवस्था को निजी हाथों में देने का निर्णय लिया है। 27 मार्च से बिजली कर्मचारी और अधिकारी विरोध सभाएं कर रहे हैं। धरना प्रदर्शन और रैलियां निकाली जा रही है। इसके अलावा बिजली कर्मचारियों ने शाम पांच बजे और अगले दिन दस बजे के बीच कार्य करना बंद कर दिया है। इसी बीच अगर बिजली आपूर्ति में कहीं दिक्कत आ जाए तो उसे अगले ही दिन सुधारा जा रहा है। गुरुवार को सरकार ने अपना फैसला वापस ले लिया। इसके बाद भी बिजली कर्मचारी धरना दे रहे हैं। जिस कारण उपभोक्ताओं में आक्रोश पनपता जा रहा है। बुधवार रात रामगंगा विहार में बिजली सप्लाई ठप हो गई थी। काफी देर बाद भी जब बिजली सप्लाई शुरू नहीं हुई तो लोग बिजली घर पर पहुंच गए थे। उन्होंने यहां हंगामा किया था। इसके अलावा रेती स्ट्रीट और दौलतबाग में भी बिजली सप्लाई में दिक्कत हुई थी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/4QgKKAAA

📲 Get Moradabad News on Whatsapp 💬