[sitapur] - रेत की दरार ढही, दबकर मजदूर की गई जान

  |   Sitapurnews

बिसवां में हादसा, क्षेत्रवासियों ने लगाया अवैध खनन का आरोप
सीतापुर/बिसवां। बिसवां कोतवाली क्षेत्र में गुरुवार शाम खनन के दौरान रेत की दरार ढह गई। इससे रेत की ढेर में दबकर एक मजदूर की मौत हो गई। स्थानीय नागरिकों की माने तो वहां पर अवैध तरीके से खनन किया जा रहा था। उधर, खनन विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इस मामले में जांच कर अवैध रूप से खनन कर लोगों पर कार्रवाई की जाएगी।

बिसवां कोतवाली क्षेत्र के चंदन महमूदपुर निवासी अनुज कुमार (28) क्षेत्र के प्रभात ईंट भट्ठे पर मजदूरी करता था। गुरुवार को वह अन्य कई मजदूरों के साथ भट्ठे की ट्रैक्टर ट्रॉली से गांव के पास ही एक खेत में खनन कर रहा था। बताया जा रहा है कि जहां पर खनन हो रहा था, वह भूमि रेतीली है और काफी गहराई तक खनन का काम चल रहा था।

जिस स्थान पर अनुज खोदाई का काम कर रहा था, उसके ठीक ऊपर भारी भरकम दरार थी। अचानक वह दरार फटकर अनुज पर गिर गई। जिसकी वजह से वह रेत व मिट्टी के टीले में दब गया। वहां मौजूद मजदूरों ने करीब आधा घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मिट्टी हटाकर अनुज को बाहर निकाला।

तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। सूचना पाते ही गांव के लोग मौके पर पहुंच गए और वे भट्ठा स्वामी पर अवैध खनन का आरोप लगाने लगे। ग्रामीणों का कहना था कि खनन का मानक है कि दो मीटर से अधिक गहराई तक खनन नहीं किया जा सकता है। इसके बावजूद यहां तो 10 से 12 मीटर गहराई तक खनन का काम चल रहा था।

जिसमें ईंट भट्ठा स्वामी व क्षेत्र के जिम्मेदारों की मिलीभगत रही। नतीजा इस मनमानी के चलते अनुज की दबकर मौत हो गई। उधर, हादसे के बाद खनन विभाग जागा है। उसके अधिकारियों का कहना है कि यह खनन उनके संज्ञान में नहीं था। घटना सामने आई है, जांच की जाएगी।

खनन अगर दो मीटर से अधिक हुआ है तो अवैध है। जिसके ऊपर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। वहीं प्रशासनिक अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है। प्रभारी निरीक्षक हरमीत सिंह ने बताया कि मजदूर प्रभात ईट भट्ठे पर काम करता था, रेत का भारी भरकम टीला गिरने से उसकी मौत हुई है। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है।

एसडीएम बोले, खनन विभाग जाने
इस घटना को लेकर एसडीएम बिसवां अतुल प्रकाश श्रीवास्तव का तर्क सबसे अलग था। जब उनसे इस घटना के संबंध में जानकारी ली गई। तब उन्होंने कहा कि खनन की जिम्मेदारी खनन विभाग की होती है। इस वजह से वे इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दे सकते। सिर्फ खनन विभाग ही जानकारी दे सकता है।

होगी कार्रवाई
खनन का परमिट अधिकतम दो मीटर तक खोदाई का दिया जाता है। जहां पर मजदूर की दबकर मौत होने की बात सामने आ रही है। वहां पर दस मीटर से भी अधिक गहरी खोदाई की शिकायत मिल रही है। घटना स्थल को दिखवाया जा रहा है। जिम्मेदारों पर कार्रवाई की जाएगी।
-आरपी सिंह, जिला खनन अधिकारी

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Q8x_kQAA

📲 Get Sitapur News on Whatsapp 💬