[unnao] - गर्भवती को नहीं मिली एंबुलेंस, नवजात की मौत

  |   Unnaonews

उन्नाव। सुमेरपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में गर्भवती के इलाज में डाक्टरों ने लापरवाही बरती। हालत बिगड़ने पर उसे रेफर भी नहीं किया गया। महिला को जबरन रेफर कराने के बाद परिजनों ने एंबुलेंस के लिए फोन किया तो वह उपलब्ध नहीं हुई। परिजन निजी वाहन से महिला को लेकर जिला अस्पताल पहुंचे। यहां स्ट्रेचर के लिए करीब 15 मिनट तक भटकना पड़ा। इस बीच वाहन में ही प्रसव शुरू हो गया। जिला अस्पताल में प्रसव के कुछ देर बाद नवजात की मौत हो गई। परिजनों ने डाक्टरों पर इलाज में लापरवाही का आरोप लगाया है।

बिहार थानाक्षेत्र के आकमपुर निवासी राममिलन ने गुरुवार रात पत्नी अंजली को प्रसव पीड़ा होने पर सुमेरपुर स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया था। राममिलन का आरोप है कि रात में डाक्टरों ने इलाज नहीं किया। इससे अंजली की हालत बिगड़ गई। शुक्रवार सुबह विरोध करने पर अंजली को कहीं और ले जाने की सलाह दी। इस पर परिजनों ने अंजली को जिला अस्पताल के लिए रेफर करा लिया। जिला अस्पताल तक अंजली को लाने के लिए एंबुलेंस नहीं मिली। अंजली की हालत बिगड़ने पर परिजन निजी वाहन से जिला अस्पताल लाए। जिला अस्पताल के गेट पर वह 15 मिनट तक स्ट्रेचर के लिए भटकते रहे। इस बीच अंजली को प्रसव शुरू हो गया। किसी तरह परिजनों ने अंजली को महिला अस्पताल में भर्ती कराया। राममिलन ने बताया कि वह अंजली को लेबर रूम में लेकर पहुंचे, तब तक आधा प्रसव हो चुका था। प्रसव के बाद बच्चे की हालत गंभीर बताकर डाक्टराें ने उसे एसएनसीयू वार्ड भेज दिया। कुछ देर बाद बच्चे की मौत हो गई। बच्चे की मौत के बाद डाक्टरों ने उसे परिजनों के सुपुर्द कर दिया। अंजली की हालत गंभीर बनी हुई है। राममिलन का आरोप है कि सुमेरपुर के डाक्टरों ने लापरवाही बरती। समय से अंजली को रेफर कर दिया जाता तो बच्चे की जान बच जाती। वहीं एंबुलेंस न मिलने पर भी परिजनों ने आक्रोश जताया।

इनसेट

मामले की होगी जांच

सीएमओ डा. एसपी चौधरी ने बताया कि परिजनों के आरोप की जांच कराई जाएगी। अगर सुमेरपुर सीएचसी के डाक्टरों ने लापरवाही बरती है तो कार्रवाई होगी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/XrE6PQAA

📲 Get Unnao News on Whatsapp 💬