👫 पति-पत्नी को अलग किया, दिल्ली हाईकोर्ट 🏛️ ने पुलिस 👮 को फटकारा

  |   समाचार

दिल्ली हाई कोर्ट ने मुस्लिम महिला को उसके हिंदू पति से जबरन अलग करने के लिए पुलिस को फटकार लगाई है। लड़की की उम्र 21 साल से ऊपर होने और अपनी मर्जी से हिंदू लड़के से शादी करने के बावजूद उसे पति से अलग कर दिया गया था।

जस्टिस एस.मुरलीधर और जस्टिस विनोद गोयल की पीठ ने दिल्ली पुलिस से उन आरोपों पर जवाब मांगा जिसमें कहा गया है कि उन्होंने पति को 3 से 5 जुलाई तक बिना कोर्ट में पेश किए लॉक-अप में रखा। इस जोड़े ने 28 जून, 2018 को यूपी के गाजियाबाद में शादी की थी और नई दिल्ली के जेएनयू कैम्पस में एक व्यक्ति के घर में रहना शुरू कर दिया था।

3 जुलाई को रात 8 बजे के करीब जेएनयू सुरक्षाकर्मी और अन्य सादे लिबास में पुलिसकर्मियों के साथ आए और लड़की को साथ ले गए जबकि लड़के को पुलिस के हवाले कर दिया। लड़के को गाजियाबाद के लोनी पुलिस थाने ले जाया गया और लॉक-अप में तीन दिन रखा गया।

पति ने आरोप लगाया है कि हवालात में उसके साथ दुर्व्यवहार किया गया, मारपीट की गई और धमकाया गया कि अगर उसने पत्नी से मिलने की कोशिश की तो उसे रेप के झूठे मामले में फंसा दिया जाएगा। पुलिस ने लड़की के भाई की तरफ से बहन के लापता होने की शिकायत दर्ज कराने के बाद यह कार्रवाई की थी।

खबर के लिए देखें- http://v.duta.us/Tyg_FgAA

📲 Get समाचार on Whatsapp 💬