[chhindwara] - आज अंतरराष्ट्रीय बाघ दिवस: टाइगर के लिए भेजे जाएंगे छह हजार चीतल

  |   Chhindwaranews

छिंदवाड़ा.सतपुड़ा टाइगर रिजर्व होशंगाबाद और नौरादेही वन अभ्यारण्य सागर में बढ़ते टाइगर की जरूरतों को पूरा करने के लिए पेंच नेशनल पार्क से इस साल छह हजार चीतल भेजे जाएंगे। इससे पार्क में चीतल की आबादी पर नियंत्रण हो जाएगा तो वहीं दूसरे इलाकों के टाइगर को जैविक भोजन मिल पाएगा। पेंच पार्क प्रबंधन ने अक्टूबर के बाद शिफ्टिंग की तैयारी की है।

पार्क सूत्रों के मुताबिक सिवनी और छिंदवाड़ा जिले में 1179.63 वर्ग किमी क्षेत्र में फैले पेंच पार्क में बाघ, तेंदुआ के अलावा चीतल, काले हिरन, काले नेप्ड, खरगोश, लकड़बग्घा, उडऩेवाली गिलहरी, साम्भर, लोमड़ी, जंगली सुअर, साही, सियार, चार सींगा और नीलगाय की मौजूदगी को देखा जा सकता है। पार्क के वातावरण में चीतल की आबादी अन्य वन्य प्राणियों की अपेक्षा तेजी से बढ़ी है। कई बार इन चीतलों को चौरई, बिछुआ से लगे बफर जोन के खेतों में आ जाते हैं। दूसरे नेशनल पार्क सतपुड़ा और नौरादेही में इनकी संख्या कम है। इससे वहां मौजूद टाइगर समेत अन्य हिंसक वन्य प्राणियों की भोज्य जरूरतें पूरी न होने से वे आबादी क्षेत्र में आ जाते हैं। इससे वन्यप्राणी और मानव संघर्ष की नौबत आ रही है। इस स्थिति को देखते हुए उच्च स्तर पर पेंच पार्क के छह हजार चीतलों को इन पार्कों में शिफ्ट करने का निर्णय लिया गया है। पार्क अधिकारियों के अनुसार पांच हजार चीतल सतपुड़ा टाइगर रिजर्व और एक हजार नौरादेही भेजे जाएंगे। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/18a6sQAA

📲 Get Chhindwara News on Whatsapp 💬