[dewas] - छात्राएं साइकिल पर समूह में चलने से बचें

  |   Dewasnews

देवास. मनुष्य जीवन बहुत मूल्यवान है। इस जीवन की रक्षा और सुरक्षा हमें स्वयं ही करना होती है। यह तभी संभव है जब हम सड़क पर चलते समय यातायात के नियमों का ईमानदारी से पालन करें। हम यातायात नियमों के बारे में सब कुछ जानते हैं पर उन्हें मानते नहीं हैं। इतिहास को देखे तो पता लगेगा कि पूरे संसार में जितने लोग युद्ध व महामारी में नहीं मारे गए उनके अधिक लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे जाते हैं। यदि हम यातायात नियमों के पालन को हमारा कर्तव्य समझ लें तो न केवल हमारा जीवन सुरक्षित हो सकता है अपितु अन्य का जीवन भी बचाया जा सकता है। महारानी चिमनाबाई उमावि में यातायात नियमों की जानकारी देते हुए रक्षित निरीक्षक विक्रमसिंह भदौरिया ने छात्राओं से आग्रह किया कि साइकिल पर समूह में न चलें। सदैव एक के पीछे एक चलें। इससे बड़े वाहनों को निकलने में आसानी होती है। साइकिल पर पीछे रिफलेक्टर अवश्य होना चाहिए। दिखाने के लिए सस्ते हेलमेट का उपयोग न करें बल्कि सिर की सुरक्षा के लिए प्रमाणित हेलमेट का ही उपयोग करें। इस अवसर पर यातायात सूबेदार बीएल कनौजे ने छात्राओं को मेंडेटरी, वार्निंग और इन्फार्मेटरी बोर्ड के बारे में बताया। ओवरटेक करने की जानकारी देते हुए कनौजे ने युवा सदस्यों द्वारा फिल्मों से प्रेरित स्टंट सड़क पर न दिखाने के प्रति सावधान किया। साथ ही बताया कि सड़क पर चलने वाले वाहनों में क्रम होता है जैसे एंबुलेंस, फायर बिग्रेड और हाईवे वाहन आदि। अतिथि स्वागत वेदना चौधरी ने किया। कार्यक्रम की भूमिका एनएसएस प्रभारी रुचि व्यास द्वारा प्रस्तुत की गई। बालसभा अंतर्गत आयोजित इस कार्यक्रम का संचालन छात्राओं गायत्री पंवार, जाग्रति मुकाती, तेजेश्वरी, पलक मिश्रा, पूनम, कशिश शेख, सिमरन मुकाती, सोफिया शेख, सोनू पटेल ने किया। इस अवसर पर शिक्षिकाएं नीलम पटेरिया, अर्चना कहार, रश्मि दुबे, किरण खीची, दीपाली मिरजकर, अमृता चौधरी, राखी धाड़ी, अनुराधा तिवारी, पीएल चक्रवर्ती, ओपी कौशल आदि उपस्थित थे। आभार प्राचार्य एफबी मानेकर ने माना। यह जानकारी प्रसून पंड्या ने दी।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/DrBr1gAA

📲 Get Dewas News on Whatsapp 💬