[jabalpur] - इंसानी दखल कम और जंगल बढ़ाकर बाघों को महफूज करने की चुनौती

  |   Jabalpurnews

जबलपुर. वन्य जीवों में सबसे ज्यादा उत्साह और रोमांच का अनुभव कराने वाले बाघ की लगातार घटती संख्या ने जंगलों की बायोडायवर्सिटी को लेकर चिंता बढ़ाई है और यही वजह है कि इसके संरक्षण के उद्देश्य से पूरी दुनिया में इसके नाम एक दिन किया गया। रविवार (29 जुलाई) को टाइगर-डे की सार्थकता तभी है, जब इनका जीवन भी उनकी दुनिया में महफूज हो। लगातार जंगलों के घटते दायरे ने इस खूबसूरत प्राणी को रिहायशी इलाकों में जाने के लिए विवश कर रहे हैं। इससे उसकी खुद की जान को खतरा तो बना ही है, इंसान भी भयाक्रांत हो रहा है। ऐसे में बाघों के लिए सुरक्षित जंगल तैयार करना भी चुनौती बनी हुई है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/BZfZYgAA

📲 Get Jabalpur News on Whatsapp 💬