[jaunpur] - 21 विद्युत उपकेंद्रों का जर्जर भवन, हो सकता है बड़ा हादसा

  |   Jaunpurnews

जौनपुर। जिले के 21 विद्युत उप केंद्रों के भवन जर्जर हैं जिससे कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है। इन विद्युत उप केंद्रों में बारिश के मौसम में छत से पानी टपक रहा है। उपकरण जलने की संभावना भी बनी हुई है। वहीं जान जोखिम में डालकर कर्मचारी ड्यूटी करने को विवश हैं। दो साल पहले पानी टपकने से जगदीशपुर विद्युत उपकेंद्र का पैनल ब्लास्ट हो गया था। बावजूद इसके विद्युत उपकेंद्रों के जर्जर भवनों का मरम्मत नहीं कराया जा रहा है।

सरकार भले ही 24 घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए नित नई कवायद कर रही हो। लेकिन जिले के जर्जर बिजली उपकेंद्र उसकी सारी कवायद पर पानी फेर रहे हैं। जिले में बिजली उपलब्ध कराने के लिए कुल 53 विद्युत उपकेंद्र हैं। जिसमें से 21 विद्युत उपकेंद्र चौरी, जगदीशपुर, मुर्तजाबाद, जलालपुर, महराजगंज, बदलापुर, सिकरारा, बरसठी, नेवढ़िया, सुरेरी, हुुसेनाबाद, नईगंज, जंघई, सुईथाकला, शाहगंज, खेतासराय, पिलकिछा, बक्शा, सरायख्वाजा, कुद्दूपुर व मल्हनी के भवन जर्जर हैं। इन विद्युत उपकेंद्रो की हालत यह है कि वे कभी भी ढ़ह सकते हैं। बारिश में इनकी छतों से पानी झरने की तरह टपक रहा है। इसकी वजह से विद्युत उपकेंद्रो में लगे उपकरणों के जलने की आशंका बनी हुई है। बारिश होते ही फाल्ट आने से हर समय बिजली आपूर्ति बाधित होती रहती है। इससे बिजली उपभोक्ताओं को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं तैनात कर्मचारी जान जोखिम में डालकर काम करने को विवश हैं। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/htOWagAA

📲 Get Jaunpur News on Whatsapp 💬