[katni] - झुग्गी-झोपड़ी में रहकर कर हरे थे गुजरा, मकान बनाने मिले रुपए तो कर बैठे ये काम

  |   Katninews

कटनी. हर किसी का सपना होता है कि उसके पास अपना घर हो, लेकिन महंगाई के इस दौर में हर किसी गरीब को आशियाना बना पाना किसी सपने से कम नहीं होता। इस सपने को जीवंत करने के लिए पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना चलाई जा रही है। 2022 तक हर व्यक्ति को आवास उपलब्ध कराने की योजना है। यह योजना न सिर्फ आवास के दिला रही है बल्कि उनके जीवन स्तर को बढ़ाने प्रयास हो रहा है, लेकिन जिले में जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण लगातार डिफाल्टरों की संख्या बढ़ती जा रही है। मई माह में जिले में आवास योजना की किश्त लेकर मकान न बनाने वालों की संख्या 420 थी जो अब बढ़कर 900 हो गई है। हितग्राही प्रथम और द्वितीय किश्त लेकर मकान का निर्माण नहीं कराया है, बल्कि उस राशि को अपने अन्य उपयोग में खर्च कर लिया है। इस हितग्राहियों से वसूली के लिए आरआरसी भी जारी की गई है, लेकिन अबतक एक भी मामले में रिकवरी नहीं हुई है। वहीं सूत्रों की मानें बैंक से रुपए निकाल लेने के बाद किसी ने कर्ज चुका दिया तो किसी ने अन्य कामों में खर्च कर दिया है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/05x6tgAA

📲 Get Katni News on Whatsapp 💬