[mau] - बिना पुस्तक बढ़ने को विवश हैं बच्चे

  |   Maunews

परिषदीय प्राथमिक, उच्च प्राथमिक विद्यालयों तथा अनुदानित जूनियर हाई स्कूल, अंबेडकर प्राथमिक विद्यालयों के छात्रों को निशुल्क पुस्तकों के वितरण में जिले का बेसिक शिक्षा विभाग फिसड़्डी है। नये शिक्षा सत्र के चार महीने बीतने के बाद जिले के महज15 प्रतिशत छात्रों को ही किताबें मिल पाई हैं। 85 फीसदी छात्र बिना किताबों के ही पढ़ाई कर रहे हैं।

सरकार ने नयी शिक्षा अप्रैल महीने से ही शुरु कर दिया है जबकि इन किताबों की खरीद के लिए आर्डर ही जून की दूसरे सप्ताह में दिया गया। जब आर्डर ही देर से दिया गया तो सप्लायर समय से किताबों की आपूर्ति कैसे करेंगे। नये सत्र से छात्रों को कैसे मिलेंगी किताबें जब उनकी खरीद का आर्डर ही सत्र शुरु होने के ढाई महीने बाद दिया गया। महकमा प्रकाशकों द्वारा किताबें भेजने का इंतजार कर रहा है। सरकारी पुस्तकों के भरोसे छात्र पढ़ाई से वंचित हैं। जिम्मेदार विभागीय अधिकारी पुस्तकें मंगवाने का हवाला देकर अपने उत्तरदायित्वों से पल्ला झाड़ ले रहे हैं। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/d_7PFwAA

📲 Get Mau News on Whatsapp 💬