[pratapgarh] - एसटीएफ ने जुटाए डिजिटल साक्ष्य, भेजा लखनऊ

  |   Pratapgarhnews

व्यापारी भाइयों के हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने पहुंची एसटीएफ रात भर बाजार में डिजिटल साक्ष्य एकत्र करने में पसीना बहाती रही। जिसे जांच के लिए लखनऊ भेजा गया है। वहां से रिपोर्ट मिलने के बाद एसटीएफ की कार्रवाई तेज होने की उम्मीद है। घटना के समय 688 मोबाइल नंबरों से बातचीत हो रही थी। जिसमें से संदिग्ध नंबरों को ट्रेस करने में एसटीएफ माथापच्ची कर रही है।

कोहड़ौर बाजार के व्यापारी श्यामसुंदर और श्याममूरत की 25 जुलाई की रात आठ बजे गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। हत्या का खुलासा करने के लिए प्रदेश के डीजीपी ओपी सिंह ने एसटीएफ को लगाया है। ताकि जल्दी से जल्दी घटना का खुलासा हो सके। डीजीपी का आदेश मिलते ही लखनऊ एसटीएफ के निरीक्षक हेमंत भूषण सिंह, इलाहाबाद फील्ड यूनिट के सीओ नवेंदु सिंह को लगाया गया। शुक्रवार को टीम कोहड़ौर बाजार पहुंची। रंगदारी मांगने से लेकर अन्य बिंदुओं पर दिन भर छानबीन की। रात में सन्नाटा होने के बाद एसटीएफ की टीम फिर अपना काम करने लगी। सूत्रों की मानें तो रात भर टीम ने डिजिटल साक्ष्य एकत्र करने में पसीना बहाया। घटनास्थल की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी की। रेत में मिले खोखे की भी फोटो खींची गई। पुलिसकर्मियों के जरिए क्राइम सीन फिर से तैयार किया गया। बाजार में लगे सभी मोबाइल टावरों की डीटेल को खंगाला। जिसमें घटना के समय बाजार में लगे मोबाइल बीटीएस से 688 लोग बात करते मिले। डिजिटल साक्ष्य एकत्र करने के बाद एसटीएफ ने उसे जांच के लिए लखनऊ भेजा है। जिन 688 नंबरों से बातचीत हो रही थी, उसमें संदिग्ध नंबरों को चिह्नित करने के बाद एसटीएफ उन नंबरों की लोकेशन का पता लगा रही है ताकि व्यापारी भाइयों के हत्यारों तक पहुंचा जा सके। एसटीएफ अमेठी, सुलतानपुर के अलावा जिले के करीबी थाना क्षेत्रों में डेरा डाले हुए है।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/ys_KHgAA

📲 Get Pratapgarh News on Whatsapp 💬