[uttarkashi] - विद्युत उत्पादन पर भारी पड़ रही बारिश के साथ गंगा भागीरथी के पानी में बढ़ रही सिल्ट

  |   Uttarkashinews

उत्तरकाशी। गंगा भागीरथी के जलागम क्षेत्र में हो रही बारिश बिजली उत्पादन पर भारी पड़ रही है। बारिश के पानी के साथ भारी मात्रा में सिल्ट (गाद) बहकर आने से मनेरी भाली प्रथम एवं द्वितीय चरण परियोजना में विद्युत उत्पादन प्रभावित हो रहा है। 90 मेगावाट की प्रथम चरण परियोजना को 22 जुलाई से बंद किया जा चुका है, जबकि 304 मेगावाट की स्टेज टू परियोजना में जुलाई के भीतर ही 50 घंटे से ज्यादा समय तक टरबाइनें थमी रहीं। ऐसे में जल विद्युत निगम को विद्युत उत्पादन हानि का सामना करना पड़ रहा है।

बता दें कि बीते सालों की बाढ़ के साथ ही सड़क कटान आदि कार्यों का भारी मलबा गंगा भागीरथी की अपस्ट्रीम (उत्तरकाशी से ऊपर भागीरथी का प्रवाह पथ) में जमा है। यह मलबा अब बारिश के पानी के साथ बहकर नीचे आ रहा है, जिससे गंगा भागीरथी के पानी में सिल्ट की मात्रा बढ़ने पर मनेरी भाली प्रथम एवं द्वितीय चरण परियोजना में विद्युत उत्पादन प्रभावित हो रहा है। पानी में सिल्ट की मात्रा ज्यादा होने के कारण 2000 पीपीएम (पार्टिकल्स पर मिलियन) पर डिजाइन 90 मेगावाट की प्रथम चरण परियोजना में उत्पादन की स्थिति नहीं बन पाने की वजह से बीते 22 जुलाई से मानसून क्लोजर लेकर बरसात सीजन के लिए बंद कर दी गई है। ...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/U-XTcAAA

📲 Get Uttarkashi News on Whatsapp 💬