[varanasi] - शिव भक्तों की राह में सड़कें बनीं चुनौतीं

  |   Varanasinews

ज्ञानपुर। सावन में सड़कों की बदहाली शिवभक्तों की राह का रोड़ा बनेगी। प्रयाग से जल भरकर स्वयंभू सेमराधनाथ धाम, बड़े शिव और तिलेश्वरनाथ समेत जिले के तमाम प्रमुख शिवालयों पर जलाभिषेक करने वाले कांवरियों को जिले की जर्जर और निर्माणाधीन सड़कों के गड्ढों से जंग करनी होगी। हालांकि सावन के पहले दिन भक्ति की शक्ति सभी तरह की बाधाओं पर भारी पड़ती दिखी। तमाम खराब सड़कों पर भी कांवरिया सड़कों की चुनौती को झेलते हुए आगे बढ़ते रहे।

इलाहाबाद के प्रयाग से जल भर कर काशी विश्वनाथ जलाभिषेक करने जाने वाले हजारों शिवभक्त भदोही जिले की सीमा में 42 किलोमीटर लंबे हाईवे पर कांवर लेकर पदयात्रा करते हैं। इस दौरान उनके लिए हाईवे का एक लेन आरक्षित रहता है, लेकिन इस बार चुनौतियां ज्यादा हैं। बरौत से वाराणसी तक सिक्सलेन बनाए जा रहे राजमार्ग पर जगह-जगह तीसरे लेन के निर्माण के लिए सड़क को खोदकर छोड़ दिया गया है। साथ ही कई स्थानों पर सर्विस लेन और डिवाइडर आदि तोड़े जाने से बने गड्ढे बारिश में बेहद खतरनाक हो गए हैं। इन रास्तों से होकर कांवरियों को पैदल यात्रा करने की चुनौती है। हाईवे पर कई स्थानों पर जलनिकासी की व्यवस्था न होने के कारण कांवरियों और सामान्य यात्रियों को जलभराव और कीचड़ से भी जूझना पड़ रहा है। हालांकि सावन के पहले सोमवार को जलाभिषेक करने के लिए कांवरियों का रेला सड़कों पर निकला तो तमाम तरह की चुनौतियां उनके उत्साह के आगे गौड़ दिखीं। सड़कों की बाधाओं के बावजूद भोलेभक्त मदमस्त चलते जा रहे थे। फोरलेन बन रही भदोही-मिर्जापुर और भदोही-जौनपुर रोड पर जानलेवा गड्ढे हो गए हैं। इन मार्गों पर भी कांवरिया नंगे पैर शिवभक्ति में मस्त होकर चल रहे थे। औराई चौराहे से लेकर उगापुर तक सड़क की हालत बेहद खराब हो गई है। इसी तरह अन्य शिवालयों को जाने वाले मार्गों की हालत भी बेहतर नहीं है। ज्ञानपुर-दुर्गागंज रोड से होकर शिवधाम की ओर आने-जाने वाले शिवभक्तों को भी बारिश में कठिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ रहा है।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/htg0UQAA

📲 Get Varanasi News on Whatsapp 💬