😞खैर अच्छा ही हुआ कि ये मुमकिन न हुआ😔

  |   Shayari

😞खैर अच्छा ही हुआ कि ये मुमकिन न हुआ,😔
😟मेरी इस रूह का कोई भी पैरहन न हुआ।😕

😣पल गुजारे थे जो तन्हाई में रोते-रोते,😭
😣इस तरीके से भी मेरा गम कुछ कम न हुआ। 😖

❤उड़ रहा था मेरा दिल भी परिंदों की तरह,🐦
😣तीर जब लग गया तो कोई भी मरहम न हुआ। ☹

👀देख लेनी थी मुझे भी हर सितम की अदा,😩
😟ऐ सनम तेरे जैसा मेरा कोई दुश्मन न हुआ। 😔

📲 Get हिंदी शायरी on Whatsapp 💬