[azamgarh] - डॉक्टर को दिखाना हो तो साढ़े नौ बजे के बाद पहुंचे अस्पताल

  |   Azamgarhnews

आजमगढ़। सरकार भले ही स्वास्थ्य सुविधाओं के विकास के दावे करें, लेकिन जिला मुख्यालय स्थित मंडलीय अस्पताल पर सरकार के दावे का पूरी तरह से माखौल उड़ रहा है। ओपीडी का टाइम सुबह आठ बजे से दो बजे तक का है, फिर भी साढ़े नौ बजे पहले कोई भी डॉक्टर अपनी ओपीडी में नहीं बैठता है। जिससे मरीजों को काफी दुश्वारियां झेलनी पड़ रही है। सबकुछ जानते हुए अस्पताल प्रशासन मूकदर्शक बना हुआ है और लेटलतीफी करने वाले डॉक्टरों के साथ ही खड़ा नजर आता है।

अमर उजाला की टीम पौने नौ बजे मंडलीय अस्पताल पर पहुंची। इस दौरान कमरा नंबर 15 जिसमें फिजिशियन डॉ. राजनाथ की ओपीडी होती है, वह डॉक्टर विहीन मिली। दो दर्जन से अधिक मरीज उनके बैठने का इंतजार करते देखे गये। वहीं कक्ष संख्या 16 डॉ. सुभाष सिंह था ये भी अपने कमरे से नदारद थे। कक्ष संख्या 17 एनसीडी क्लीनिक है। यहां फिजिशियन डॉ. वीपी सिंह बैठते है वह भी 8.55 तक अपने ओपीडी में नहीं पहुंचे थे। कक्ष संख्या 19 सर्जन कक्ष में डॉ. एके कुशवाहा और डॉ. संतोष कुमार गुप्ता बैठते है। ये भी अपने कक्ष में मौजूद नहीं मिले। सवा नौ बजे आयूष का में तैनात डॉक्टर भी अनुपस्थित मिले। कक्ष संख्या 8 फिजिशियन डॉ. आरके कुशवाहा को एलाट है। 9:15 तक वे भी अपने ओपीडी में नहीं पहुंचे थे। कक्ष संख्या 7 नाक कान गला रोग विशेषज्ञ का है। यहां डॉ. आरके पासवान और डॉ. आशुतोष की तैनाती है। ये दोनो डॉक्टर भी 9:20 तक नहीं मौजूद मिले। यहां भी मरीजों की संख्या काफी ज्यादा थी और डॉक्टर के न मौजूद रहने से मरीज परेशान थे। कक्ष संख्या छह डॉ. आरआर श्रीवास्तव फिजिशियन का है। वे भी 9:25 तक अपनी ओपीडी में नहीं पहुंचे थे। साढ़े नौ बजे के बाद ही डॉक्टरों का अस्पताल में पहुंचना शुरू हुआ। इस दौरान संख्या 20 जिसमें बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. रईस अहमद बैठते है। वहीं सिर्फ उपस्थित नजर आये।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/Gi8oTgAA

📲 Get Azamgarh News on Whatsapp 💬