[ghazipur] - पानी के बीच से होकर आते-जाते हैं बच्चे

  |   Ghazipurnews

दिलदारनगर। प्राथमिक तथा पूर्व माध्यमिक विद्यालय दिलदारनगर के परिसर में बारिश का पानी जमा है। इसके चलते छात्रों को परेशानी हो रही है। उन्हें पानी के बीच से होकर आना-जाना पड़ रहा है। यहां पढ़ाई तो नहीं रुकी है लेकिन मिड डे मील बनाने और खाने में छात्रों को परेशानी हो रही है, क्योंकि कई दिनों से ठहरा पानी दुर्गंध दे रहा है। यही नहीं इस स्कूल में चहारदीवारी भी नहीं है। इसके चलते छात्र अपने को असुरक्षित महसूस करते हैं।

प्राथमिक विद्यालय एवं पूर्व माध्यमिक विद्यालय एक ही जगह नगर के वार्ड नंबर आठ में आसपास स्थित हैं। प्राथमिक विद्यालय में कुल 170 बच्चे हैं। यहां प्रधानाचार्य सहित कुल सात अध्यापक एवं अध्यापिकाएं नियुक्त हैं। पास के पूर्व माध्यमिक विद्यालय में कुल 40 छात्रों को शिक्षा देने के लिए दो अध्यापक हैं। हल्की बरसात होने पर भी विद्यालय परिसर में पानी जमा हो जाता है। निकासी की कोई व्यवस्था नहीं है। बारिश होने पर विद्यालय झील में तब्दील हो जाता है। वर्तमान में विद्यालय में पानी लगा हुआ है। बच्चों को विद्यालय में जाने के लिए बरसात के गंदे पानी से होकर गुजरना पड़ रहा है। जलजमाव से दुर्गंध निकलने के कारण पठन पाठन कर रहे छात्रोें के साथ ही अध्यापकों को भी परेशानी महसूस हो रही है। सबसे ज्यादा परेशानी मध्यान्ह भोजन के दौरान हो रही है। प्रधानाचार्या सरिता यादव का कहना है कि चहारदीवारी विहीन होने के कारण आवारा पशु विद्यालय परिसर में आ जाते हैं जिससे और गंदगी हो जाती है। यह समस्या दस वर्षों से बनी हुई है। जल जमाव की समस्या से निजात पाने के लिए विभाग के उच्चाधिकारियों को कई बार लिखित और मौखिक रूप से अवगत कराया गया। विभाग की उदासीनता के चलते इस समस्या का समाधान नहीं हो पा रहा है। अभिभावक भी इस समस्या को लेकर असंतोष व्यक्त करते रहते हैं। खंड शिक्षा अधिकारी सुदामा राम ने बताया कि डीएम की ओर से जलजमाव की समस्या वाले विद्यालयों की सूची मांगी गई है। यहां की समस्या को प्रमुखता से बताते हुए उन्हें इस विद्यालय का नाम भी दिया गया है। जल्द ही स्थायी रूप से इस समस्या का निराकरण किया जाएगा।

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/K-iczgAA

📲 Get Ghazipur News on Whatsapp 💬