[karnal] - दादी बोली हे भगवान इस दिन को देखने से पहले मेरी मौत क्यों नहीं आई,

  |   Karnalnews

दादी बोली हे भगवान इस दिन को देखने से पहले मेरी मौत क्यों नहीं आई, अपनी पोती को मैने लाल में जोड़े में भेजा था, लेकिन आज भगवान ने उसकी मां के साथ उसे भी कफन पहना दिया।

करनाल।

सदर बाजार में फ्रिजर में रखे मां के शव को देखकर रो रही बेटी की करंट लगने से मौत पर रोते हुए दादी बोली हे भगवान इस दिन को देखने से पहले मेरी मौत क्यों नहीं आई, अपनी पोती को मैने लाल में जोड़े में भेजा था, लेकिन आज भगवान ने उसकी मां के साथ उसे भी कफन पहना दिया। इतना कहते ही मृतक मोना की दादी बेसुध हो गई। इस हादसे से सदर बाजार व मृतक मोना के ससुराल में भी मातम छा गया। सूचना मिलते ही ससुराल पक्ष के लोग मौके पर पहुंचे। इस बड़ी घटना के बाद प्रशासन को कड़ा एक्शन लेना चाहिए। क्योंकि श्मशान घाट में रखे फ्रिजर की जांच करानी बहुत आश्वयक है। क्योंकि इस तरह का हादसा भविष्य में भी हो सकता है। बता दें सदर बाजार निवासी बिमला की उल्टी व दस्त लगने से करीब 15 दिनों से तबीयत खराब चल रही थी, अस्पताल में इलाज कराने के बाद भी उसकी तबीयत में कोई सुधार नहीं आया। 26 अगस्त की रात को बिमला ने दमतोड़ दिया। शव को रखने के लिए उनके परिजन श्मशान घाट से फ्रिजर लेकर आए। लेकिन श्मशानघाट के कर्मचारी ने ठीक कहकर खराब फ्रिजर दे दिया और जब बिमला की बेटी मोना अपनी मां के पास बैठकर विलाप कर रही थी तो सुबह छह बजे लाइट आने पर उसे भी करंट लग गया और उसकी मौत हो गई। बता दें इस परिवार में मोना की दादी प्रेमवती, पिता रमेश, मां बिमला, भाई तन्नू उसकी पत्नी आशु व बेटी तान्या, भाई मन्नू व रमेश का भाई दलिप उसकी पत्नी व तीन बच्चे रहते थे। मोना की छह महीने पहले शादी की थी।...

यहां पढें पूरी खबर— - http://v.duta.us/V6LYswAA

📲 Get Karnal News on Whatsapp 💬